सुनवाई के बाद थोड़ा व्यस्त हो जाने के कारण आप सभी को अपडेट नही दे पाया आज जितना हो हल्ला हो रहा है इतना कुछ हुआ भी नही था कोर्ट में लेकिन राई का पहाड़ बना दिया गया लेकिन इतना जरूर है कि सुनवाई में कोई भी लापरवाही   ना बरतकर सही औऱ गम्भीरता पूर्वक तैयारी करके इस केस को आसानी से जीता जा सकता है आज कोर्ट कुछ जल्दी चल रही थी क्योंकि 101 नम्बर पर सीबीआई(गुजरात स्टेट)का एक महत्वपूर्ण केस लगा था और बेंच भी 1 बजे तक थी इसलिए कोर्ट जल्दबाजी में थी इस वजह से आइटम नम्बर 6 पर एक महत्वपूर्ण केस लगा था उसमें सीनियर एडवोकेट फली नरीमन अपीयर हुए उसे भी एडजॉर्न कर दिया और 15 मिनट की सुनवाई में अपनी फ़ाइल भी डायस से 3 बार हटाई-उठाई गई।

_मित्रो आज ज्यादातर आर्गुमेंट प्रोफेशनल मुद्दे पर हुआ था और अपीयरिंग पर ज्यादा बहस नही हुई रमणी सर ने 23 अगस्त के एक्ट और 11 फरबरी की गाइड लाइन 5(¡¡) पर शुरुआत की लेकिन सच बात तो ये है कि जज साहब आज फाइनल करने के मूड में नही थे इसलिए डेट लगा दी प्रोफेशनल के विरोध में राकेश द्विवेदी जी थे और प्रोफेशनल के सपोर्ट में वी मोहना जी ने आर्गु किया ले लेकिन इस कोर्ट में हर डेट को अंतिम डेट मानकर पूरी तरह तैयार होकर जाना पड़ेगा क्योंकि आज वादी-प्रतिवादी के वकीलों को भी उम्मीद नही थी कि आज सुनवाई हो जायेगी शायद यही वजह है दोनों पक्ष अपनी पूरी ताकत के साथ कोर्ट रूम में नही आये थे_

*विशेष*
_*जो लोग एडवरटाइजमेन्ट की डेट का ईसू बना रहे है उन्हें एक बार उसे सकारात्मक लहजे में रहकर सोचना चाहिए पिछले दिनों राजस्थान हाई कोर्ट का सीजे बेंच से एक आदेश आया था कि अगर आपने विज्ञापन की अंतिम डेट तक अगर आपने सभी योग्यताएं प्राप्त कर ली है तो आप इलिजबल है हो सकता है कि जज साहब भी इसी तारतम्य में इसे पूछ रहे हो क्योंकि हमने अपनी तरफ से 300 पेज का अडिशनल डॉक्यूमेन्ट फ़ाइल किया है जिसमे सुप्रीम कोर्ट के कई आदेश सहित राजस्थान हाई कोर्ट के 4 आदेश और उसकी रिट की कॉपी भी लगाई है*_

*जैसा कि आप लोग जानते है कि  2011 के बाद की सभी भर्ती प्रभावित है और सभी भर्ती की अलग-अलग एसएलपी फ़ाइल की गई है इसी वजह से जज साहब ने सभी एसएलपी पर "लिस्ट ऑफ डेट्स" मांगी है जिससे वह पता लगा सके कि क्या विज्ञापन की अंतिम तिथि तक सभी योग्यताये प्राप्त कर ली थी*

_आज की सुनवाई के वाद पूरे प्रदेश से मैसेज/कॉल्स आ रहे है कि क्या होगा आज की सुनवाई से लोग बहुत भयभीत भी है और डिप्रेस्ड भी तो मैं इतना ही कहना चाहता हूँ कि आज की सुनवाई से आप कोई अंदाजा नही लगा सकते क्योंकि जितना आप लोग परेशान है ऐसी कोई बात नही है आप सभी लोग अपनी-अपनी टीम का साथ देते रहिए जीत हमारी ही होगी_

*मित्रो हर चीज को देखने के दो पहलू होते है एक सकारात्मक एक नकारात्मक जैसे 1 गिलास में कुछ पानी भरा है तो कुछ लोग बोलेगे कि गिलास आधा खाली है तो कुछ बोलेगे कि गिलास आधा भरा है उसी तरीके से एडवरटाइजमेन्ट की डेट पूछने को सकारात्मक लीजिये*

*उम्मीद है कि हमारी पोस्ट से आपकी काफी शंकाओं का समाधान हुआ होगा और आप लोग जिस मानसिक द्वंद से गुजर रहे थे उससे निकल पाएंगे*

*लेकिन आप लोगो को एक सलाह भी देना चाहता हूँ कि अपनी-अपनी टीम को दमदार पैरवी के लिए तैयार करे वरना आपने एक कहावत तो सुनी ही होगी "सावधानी हटी दुर्घटना घटी*


*वृजेन्द्र कश्यप*
*टीम बीएड11-12*

Loading...