Oct 7, 2018

निर्माण कार्य - प्राथमिक व उच्च प्राथमिक का निर्माण,भवन का प्रारूप व नक़्शा व अधिकारिक दिशा-निर्देश


                                  
परियोजना अवधि में,डीपीईपी - तृतीय श्रृंखला में नवीन स्थापित ब्लाक संसाधन केन्द्रों/ भवन रहित पूर्व संचालित ब्लाक संसाधन केन्द्रों के नवीन भवन के निर्माण/ प्राथमिक विद्यालयों के पुनरूद्धार, संचालित हो रहे विद्यालयों के पुनर्नियोजन के अन्तर्गत अतिरिक्त कक्षाओं की व्यवस्था, पेय जल एवं प्रसाधन सुविधायें प्रदान की गयीं।
इसी तरह से एसएसए के अन्तर्गत उच्च प्राथमिक विद्यालयों के भवनों के कार्य का भी उत्तरदायित्व ग्रहण किया गया।
जनहित में संचालित हो रहे इन कार्यक्रमों का मुख्य पहलू यह था कि इन कार्य परियोजनाओं में यहाँ के जनसमुदाय की प्रतिभागिता के साथ - साथ इन निर्माण कार्यों ( सिविल वर्क ) हेतु नवीन मानकों वाले भवन मानचित्रों / रेखांकन आकृतियों ( डिजाइन ) का समावेष तथा बच्चों का मैत्रीपूर्ण सहयोग प्राप्त किया गया।
प्रत्येक जनपद को 5 मानचित्रों ( डिजाइन ) में से जनपद विशेष की प्राकृतिक स्थिति एवं स्थानीय आवष्यकता के अनुसार किसी एक मानचित्र को चुनने की स्वतंत्रता दी गयी ।

प्राथमिक विद्यालय के पुराने भवन का प्रारूप


निर्माण कार्य - प्राथमिक व उच्च प्राथमिक का निर्माण,भवन का प्रारूप व नक़्शा व अधिकारिक दिशा-निर्देश
नये भवन का प्रारम्भिक मानक प्रारूप- भोरसिल
निर्माण कार्य - प्राथमिक व उच्च प्राथमिक का निर्माण,भवन का प्रारूप व नक़्शा व अधिकारिक दिशा-निर्देश
कुरसी क्षेत्रफल ( प्लिन्थ एरिया): 122.00 वर्ग मीटर ।
लागत : रू0 1565.57/ वर्ग मीटर।

लागत प्रभावी तकनीकियां
  • लाल ईंटों से जोड़कर बनायी हुयी दीवाल ( रेड ट्रैप बान्ड वाल) ।    
  • बाह्य भाग अनावृत्त ( अर्थात् प्लास्टर रहित बाह्य भाग) ।    
  • स्थानीय रूप से उपलब्ध पत्थर के प्रयोग से बनी छत ।
रोशनपुरा भवन का प्रारूप

कुरसी क्षेत्रफल (प्लिन्थ एरिया) :116.21 वर्ग मीटर 
लागत : रू0 1643.57/वर्ग मीटर
लागत प्रभावी टेक्नोलॉजी
  • लागत प्रभावी तकनीकियां   
  • लाल ईंटों से जोड़कर बनायी हुयी दीवाल (रेड ट्रैप बान्ड वाल)   
  • बाह्य भाग अनावृत (अर्थात् प्लास्टर रहित बाह्य भाग)   
  • ईंट की कार्बोल स्लैब   
रेलवेगंज भवन प्रारूप
निर्माण कार्य - प्राथमिक व उच्च प्राथमिक का निर्माण,भवन का प्रारूप व नक़्शा व अधिकारिक दिशा-निर्देश
कुरसी क्षेत्रफल ( प्लिन्थ एरिया) : 103.55 वर्ग मीटर ।
लागत : रू0 1844.52/ वर्ग मीटर।   

लागत प्रभावी टेक्नोलोजी
       
  • लागत प्रभावी तकनीकियां ।        
  • लाल ईंटों से जोड़कर बनायी हुयी दीवाल (रेड ट्रैप बान्ड वाल)       
  • बाह्य भाग अनावृत (अर्थात् प्लास्टर रहित बाह्य भाग)       
  • ईंट की कार्बोल स्लैब  ।   
असिगांव भवन प्रारूप

कुरसी क्षेत्रफल ( प्लिन्थ एरिया) : 166 वर्ग मीटर ।
लागत : रू0 1646.55/ वर्ग मीटर ।
लागत प्रभावी टेक्नोलोजी      
  • लागत प्रभावी तकनीकियां ।
  • लाल ईंटों से जोड़कर बनायी हुयी दीवाल (रेड ट्रैप बान्ड वाल) ।
  • बाह्य भाग अनावृत (अर्थात् प्लास्टर रहित बाह्य भाग) ।         
  • ईंट की कार्बोल स्लैब ।
  •      
भामापुरवा भवन प्रारूप

कुरसी क्षेत्रफल (प्लिन्थ एरिया) : 102.00 वर्ग मीटर ।
लागत : रू0 1872.55/वर्ग मीटर ।
लागत प्रभावी टेक्नोलोजी -            
  • लागत प्रभावी तकनीकियां ।         
  • लाल ईंटों से जोड़कर बनायी हुयी दीवाल (रेड ट्रैप बान्ड वाल) ।          
  • बाह्य भाग अनावृत (अर्थात् प्लास्टर रहित बाह्य भाग)         
  • ईंट की कार्बोल स्लैब ।    
प्राथमिक विद्यालय -
उ0प्र0 सरकार के विद्यमान मानकों के अनुसार 300 तक की आबादी वाले क्षेत्र जहाँ पैदल चली जाने वाली दूरी 1.5 कि0मी0 तक हो, पर एक प्राथमिक विद्यालय होना चाहिये, किन्तु संषोधित मानकों के अनुसार 300 तक की आबादी वाले क्षेत्र, जहाँ पैदल चली जाने वाली दूरी 1.00 कि0मी0 हो, पर एक प्राथमिक विद्यालय होना चाहिये।
उच्च प्राथमिक विद्यालय -
उ0प्र0 सरकार के निर्धारित प्राविधानों के अनुसार 800 तक की जनसंख्या वाले क्षेत्र, जहाँ पैदल चली जाने वाली दूरी 3.00 कि0मी0 तक हो, पर एक उच्च प्राथमिक विद्यालय होना चाहिये, किन्तु संषोधित प्राविधानों के अनुसार 800 तक की जनसंख्या वाले क्षेत्र, जहाँ पैदल चली जाने वाली दूरी 2.00 कि0मी0 हो, पर एक उच्च प्राथमिक विद्यालय होना चाहिए।

इकाई लागत (यूनिट लागत) -
 उ0प्र0 सरकार (जीओयूपी) द्वारा निर्धारित इकाई लागत-

प्राथमिक विद्या
लय -
 अब प्राथमिक विद्यालयों की संषोधित इकाई लागत का 3.87 लाख है।

उच्च प्राथमिक विद्यालय -
उच्च प्राथमिक विद्यालय भवन निर्माण की इकाई लागत रू0 7.49 लाख है।
प्रसाधन -
रू0 0.24 लाख दो कक्षीय प्रसाधन हेतु (छात्र-छात्राओं हेतु पृथक-पृथक)
पेयजल -
गहरी खुदाई के तल तक इंडिया मार्क के दो हस्त पम्प (हैण्ड पम्प) हेतु रू0 0.32 लाख। यह मानक शासनादेष संख्या-8278/15-5- 98-153/91 शिक्षा (5) अनुभाग, लखनऊ दिनांक 23 फरवरी, 1998 से प्रभावी हुआ।
भूकम्प प्रतिरोध हेतु प्राविधान -
वर्ष 2006-07 में प्राथमिक, उच्च प्राथमिक विद्यालयों में जोन-4 तक भूकम्प प्रतिरोध प्राविधान बनाया गया है। संषोधित डिजाइन के आधार प्राथमिक विद्यालय, उच्च प्राथमिक विद्यालय एवं कक्षाओं हेतु बनायी गयी नियम पुस्तिका जनपदों में वितरित करा दी गयीं। भूकम्प प्रतिरोध मानक प्रारूप (डिजाइन) राष्ट्रीय भूकम्प परामर्षदाता, गृह मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली द्वारा परीक्षणोपरान्त अनुमोदित की गयी।प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय हेतु यह इकाई लागत संषोधित हो गयी। प्राथमिक विद्यालय भवन एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय भवन हेतु यह संषोधित लागत क्रमषः 3.87 लाख एवं 7.49 लाख हो गयी। भूकम्प प्रतिरोध प्राविधान, कक्षाओं के मानकों, भूतल/प्रथम तल के संषोधित मानचित्रों को सम्मिलित करते हुये अतिरिक्त कक्षाओं के मानक प्रारूप (डिजाइन) भी उच्चीकृत कर दिये गये। अतिरिक्त कक्षाओं की संषोधित इकाई लागत का 2.01 लाख शासनादेष संख्या 864/79-5-09-129/98 शिक्षा अनुभाग -5 दिनाक 30 मार्च 2009 टी.सी. शिक्षा अनुभाग-5 दिनांक 24 अप्रैल, 2006 द्वारा स्वीकृत हुयी।
उत्तर प्रदेष प्रबन्धन एवं प्रषिक्षण अकादमी (इम्डप), अलीगंज, लखनऊ जून, 2006 में ग्रामीण अभियंत्रण विभाग (आर0ई0एस0 डिपार्टमेन्ट) 2 अभियन्ताओं एवं प्रत्येक जिले के 2 एबीएसए को भूकम्प प्रतिरोध पर दो दिवसीय प्रषिक्षण दिया गया। इन मास्टर प्रषिक्षकों द्वारा विद्यालय अध्यापक/राज मिस्त्री/प्रधान विद्यालय भवन के प्रभारियों को इसी विषय पर प्रषिक्षण दिया गया।

चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|