Sep 15, 2018

कई कॉपियों में लिखे उत्तरों से भी छेड़छाड़, परीक्षा के समय तैयार कार्बन कॉपी व मिली स्कैन कॉपी में दिखा अंतर, अभ्यर्थी लगा रहे जानबूझकर अनुत्तीर्ण करने का आरोप


कई कॉपियों में लिखे उत्तरों से भी छेड़छाड़, परीक्षा के समय तैयार कार्बन कॉपी व मिली स्कैन कॉपी में दिखा अंतर, अभ्यर्थी लगा रहे जानबूझकर अनुत्तीर्ण करने का आरोप।

■ कई कॉपियों में लिखे उत्तरों से भी छेड़छाड़

इलाहाबाद : 68500 के रिजल्ट और कॉपी पर दर्ज अंकों में ही अंतर नहीं है, बल्कि मूल कॉपियों में लिखे उत्तर को भी बदलने का मामला सामने आया है। अभ्यर्थियों का आरोप है कि उन्हें जानबूझकर परीक्षा में अनुत्तीर्ण करने के लिए यह सब किया गया है। वहीं, अफसर इस पर कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं, उनका कहना है कि उच्च स्तरीय जांच समिति ही इन आरोपों का वाजिब देगी।  के परीक्षा परिणाम को लेकर हर दिन नए तरह के मामले सामने आ रहे हैं।

अभ्यर्थी अनीता त्रिपाठी पत्नी अमित कुमार मिश्र को परीक्षा बुकलेट सीरीज ‘सी’ मिली थी। उसने सवाल नंबर दस के जवाब में स्वर संधि लिखा, जबकि स्कैन कॉपी में स्वर संधि के पहले दीर्घ शब्द अलग से जोड़ दिया गया है। जोड़े गए शब्द की राइटिंग भी अलग है। ऐसे ही सवाल नंबर 131 के जवाब में उसने अचल कुमार ज्योति लिखा जबकि स्कैन कॉपी के वाक्य में दो शब्द जोड़ दिए गए हैं। इसी तरह से अल्जिता चौधरी को बुकलेट सीरीज ‘डी’ के कुछ पेज ही मैच कर रहे हैं, अन्य पेजों पर अलग राइटिंग में जवाब लिखा है। स्वाति सैनी की ‘सी’ सीरीज की कॉपी में प्रश्न संख्या 121 व 83 में सही उत्तर पर भी अंक नहीं दिया गया है। अभ्यर्थी अनूप कुमार सिंह ने बताया कि इन मामलों को वह उच्च स्तरीय समिति के समक्ष रखेंगे।

चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|