Sep 30, 2018

टीईटी 2018 : छठवें दिन भी समस्या ज्यों की त्यों, सर्वर जाम,अभ्यर्थी अधर में, आज से आवेदन शुरू होने की उम्मीद


 


परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी ने कहा है कि सिस्टम दुरुस्त करने को बाहर से टीम बुलाई गई है। शनिवार की मध्यरात्रि में सिस्टम बंद करके उसकी क्षमता बढ़ाने की तैयारी है। उम्मीद है कि रविवार सुबह से आवेदन व पंजीकरण की प्रक्रिया पटरी पर लौट आएगी। उन्होंने कहा कि अभी आवेदन की समय सीमा बढ़ाने का कोई प्रस्ताव नहीं भेजा है, क्योंकि चार अक्टूबर तक का समय शेष है। उस समय तक आवेदन पूरे नहीं होंगे तब शासन निर्णय लेगा।छठवें दिन भी समस्या ज्यों की त्यों, फार्म भरे लेकिन, आवेदन नहीं हुए

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपी के लिए ऑनलाइन आवेदन की समस्या ज्यों की त्यों है। लगातार छठवें दिन भी सर्वर दुरुस्त नहीं हो सका है। हजारों अभ्यर्थी और उनके अभिभावक भोर से लेकर रात तक साइबर केंद्रों का चक्कर काटने को मजबूर हैं। वह अभ्यर्थी खासे परेशान हैं, जिन्होंने ऑनलाइन आवेदन फार्म भरा है और परीक्षा शुल्क का पैसा भी कट गया है लेकिन, शुल्क की न रसीद मिली है और न आवेदन भरा जा सका है। 1बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 97 हजार सहायक अध्यापकों की भर्ती इम्तिहान से पहले ही बड़े विवाद में घिर गई है। 17 सितंबर से ऑनलाइन आवेदन शुरू हुआ लेकिन, पिछले छह दिन से सर्वर काम नहीं कर रहा है। प्रदेश के हर जिले में बड़ी संख्या में अभ्यर्थी परेशान हैं। 


पहले सर्वर धीमे कार्य कर रहा था, जिससे घंटों इंतजार के बाद जैसे-तैसे आवेदन हो रहे थे लेकिन, शुक्रवार से ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) न आने की समस्या खड़ी हो गई। असल में अभ्यर्थी को दो बार ओटीपी आती है एक बार बैंक की ओर से शुल्क के लिए व दूसरी बार आवेदन सम्मिट करने के लिए। कहा जा रहा है कि आवेदन न हो पाने की वजह ओवरलोडिंग से सर्वर जाम होना है। टीईटी के लिए आवेदन का चार अक्टूबर तक समय निर्धारित है। अभ्यर्थी आवेदन के चक्कर में पढ़ाई भी नहीं कर पा रहे हैं, जबकि उन्हें आगे टीईटी व शिक्षक भर्ती के लिए दो परीक्षाएं देनी हैं। 


पहले से दबाव में है एनआइसी प्रदेश के अधिकांश सरकारी विभागों का कार्य एनआइसी के जरिये ही होता है। वहां स्टाफ व सिस्टम अपग्रेडेशन की समस्या पहले से है। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में आवेदन व स्टेट रैंक आदि जानने के लिए अधिक हिट होने से कई बार सर्वर सही से कार्य न करने की समस्या आती रही है। के लिए आवेदन इतनी बड़ी संख्या में होंगे इसका अफसरों को अंदाजा नहीं हुआ। इसीलिए प्रक्रिया धड़ाम हो गई। एक को कार्यालय घेरेंगे अभ्यर्थी प्रतियोगी आवेदन न होने से गुस्से में हैं और एक अक्टूबर को परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय का घेराव करने का अल्टीमेटम दिया है। अभ्यर्थियों का कहना है कि पहले पहचानपत्र के मात्र तीन विकल्प देकर परेशान किया गया, अब सर्वर की समस्या खड़ी हो गई है। 

चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|