Aug 23, 2018

शिक्षामित्रों को भारांक जोड़कर परिणाम घोषित करने का उपबंध नहीं : हाईकोर्ट ने दिया फैसला

इलाहाबाद : इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि शीर्ष कोर्ट के निर्णय के बाद सहायक अध्यापकों की लगातार आयोजित दो भर्तियों में ही शिक्षामित्रों को ढाई अंक का भारांक देने का उपबंध है। भारांक को जोड़कर परिणाम घोषित करने का नहीं। कोर्ट ने कहा है कि 1981 की सेवा नियमावली के नियम 14 के आलोक में 25 जुलाई 2017 के बाद लगातार आयोजित दो भर्तियों में ही भारांक दिया जाएगा।

यह आदेश न्यायमूर्ति डीके सिंह ने कुलभूषण मिश्र व अन्य की याचिका पर दिया है। कोर्ट ने ढाई अंक भारांक जोड़कर परिणाम घोषित करने के तर्क को सही नहीं माना और नियमावली को स्पष्ट करते हुए याचिका निस्तारित कर दी है। याचिका में 27 मई 2018 को हुई सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा 2018 के तहत शिक्षामित्र के रूप में कार्य का प्रत्येक साल ढाई अंक भारांक जोड़कर परिणाम घोषित करने की मांग की गई थी।


नियमावली के अनुसार हाईस्कूल, इंटरमीडिएट व बीटीसी के साथ लिखित परीक्षा के अंक जोड़े जाने का तरीका अपनाया जाएगा। व्यवस्था है कि शिक्षामित्र के रूप में कार्य करने का प्रत्येक साल ढाई अंक भारांक जोड़कर 25 अंक से अधिक नहीं होगा। राज्य सरकार ने नियमावली में बदलाव करते हुए केवल लगातार दो भर्तियों में ही भारांक देने की व्यवस्था की है। कोर्ट ने कहा कि इसे जोड़कर परीक्षा का परिणाम घोषित करने की मांग नहीं मानी जा सकती।

चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|