Aug 30, 2018

नंगे पांव या चप्पल पहन कर विद्यालय पहुंच रहे हैं बच्चे: बेसिक विद्यालयों में नहीं शुरू हुई जूता मोजा वितरण की कवायद, विभाग के 90 प्रतिशत यूनिफार्म वितरण का दावे में भी झोल


इलाहाबाद : आधा शैक्षिक सत्र बीतने को है परंतु जनपद के प्राथमिक विद्यालयों में जूता मोजा वितरण की कवायद अभी शुरू नहीं हो पाई है। बच्चे घरेलू जूते चप्पल अथवा नंगेपांव ही विद्यालय पहुंच रहे हैं। अभी तक बेसिक शिक्षा विभाग विद्यालयों से मांगपत्र ही एकत्र नही कर पाया है। विभाग का 90 प्रतिशत यूनिफार्म वितरण का दावा में भी झोल दिखाई दे रहा है। पड़ताल से पता चलता है कि अधिकतर विद्यालयों में सौ फीसदी बच्चों को अभी तक यूनिफार्म नहीं मिल पाया है। गत सत्र बेसिक शिक्षा विभाग के विद्यालयों में सर्दियों के बाद स्वटेर वितरण किया गया था। छात्र-छात्रएं पूरा साल सर्दियों में कांपते हुए विद्यालय पहुंचे थे। वर्तमान सत्र भी आधा बीतने वाला है। परन्तु अभी तक जनपद के विद्यालयों में बच्चों के जूता मोजा की वितरण की शुरूआत नहीं हुई है। जबकि शासन का स्पष्ट आदेश था कि 15 अगस्त से पहले सभी विद्यालयों में सौ फीसदी जूता मोजा, पाठ्यपुस्तक, बस्ता वितरित करने का स्पष्ट निर्देश दिया था। क्वालिटी को लेकर भी मानक तय नहीं किए गए हैं। यह भी निर्धारित नहीं है कि इसका टेंडर प्रदेश शासन के जेम पोर्टल से होगा अथवा स्थानीय स्तर पर खरीदारी कर वितरण किया जाएगा। बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुशवाहा का कहना है कि सभी विद्यालयों से छात्र छात्रओं की संख्या की मांगपत्र भेजने को कहा गया है। जल्द ही वितरण शुरू होगा।

चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|