Aug 19, 2018

जर्जर विद्यालयों में बच्चों की सुरक्षा के लिए हाईकोर्ट ने दिए निर्देश, 21 अगस्त को मांगी जांच रिपोर्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने वाराणसी में प्राइमरी स्कूलों के भवन जर्जर होने से दुर्घटना की आशंका को देखते हुए जिलाधिकारी को दुर्घटना रोकने के तत्काल कदम उठाने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने यह भी कहा है कि जिलाधिकारी वाराणसी, बीएसए को साथ लेकर प्राइमरी स्कूलों का 19 अगस्त को निरीक्षण करें और 21 अगस्त को कोर्ट में रिपोर्ट पेश करें। कोर्ट ने खस्ताहाल स्कूल भवनों को देखते हुए सुरक्षा कदम उठाने का भी निर्देश दिया है।

यह आदेश न्यायमूर्ति गोविन्द माथुर व न्यायमूर्ति सीडी सिंह की खंडपीठ ने जनअधिकार मंच की जनहित याचिका पर दिया है। याचियों का कहना है कि उनकी संस्था के सदस्यों ने वाराणसी के 17 प्राइमरी स्कूलों का निरीक्षण किया। कई स्कूलों के भवन ऐसी हालत में पाए गए कि वे कभी भी गिर सकते हैं। 

कई स्कूल एक कमरे में चल रहे हैं। याचियों का कहना है कि औसानगंज में प्राइमरी स्कूल में एक कमरे में स्कूल चल रहा है। न तो लैब है न ही शुद्ध पेयजल की व्यवस्था। भवन कभी भी गिर सकता है। एक कमरे में 70 बच्चे पांच कक्षाएं चलती हैं, जिन्हें तीन अध्यापक पढ़ा रहे हैं। कोर्ट ने याचिका को गंभीरता से लिया है। सुनवाई 21 अगस्त को होगी।

चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|