आसान नहीं होगा शहर के नजदीक विद्यालय पाना

आसान नहीं होगा शहर के नजदीक विद्यालय पाना
aasan nahi shahar ke nazdik school pana
जनपद के भीतर स्थानांतरण का आदेश जारी होने के बाद बढ़ी शिक्षकों की सक्रियता

दूर-दराज के विद्यालय से शहर के नजदीक या मुख्य मार्गो के विद्यालय पर आने की कर रहे जद्दोजहद

जागरण संवाददाता, गोरखपुर : बेसिक शिक्षा विभाग के सामने एक और मुंह बाए खड़ी है। निदेशालय ने जनपद के भीतर समायोजन व परस्पर स्थानांतरण का निर्देश दिया है। पांच अगस्त तक यह प्रक्रिया पूरी करनी है। आदेश जारी होते ही जनपद के सुदूर क्षेत्रों के विद्यालयों पर कार्यरत शिक्षकों ने शहर के नजदीक आने की कोशिशें शुरू कर दी हैं पर, अंतर जनपदीय स्थानांतरण में आए शिक्षकों की तरह ही इस बार भी शहर के नजदीक विद्यालय पाने का शिक्षकों का सपना पूरा होना आसान नहीं होगा। सोमवार से समायोजन की प्रक्रिया शुरू होने की उम्मीद है।

ऐसे होगा शिक्षक संख्या का निर्धारण: समायोजन व परस्पर स्थानांतरण के लिए उन विद्यालयों की सूची बनाई जाएगी, जहां छात्र-शिक्षक अनुपात से अधिक शिक्षक कार्यरत हैं। 30 सितंबर 2017 की छात्र संख्या आधार होगा। समायोजन इस आधार पर होगा कि किसी भी विद्यालय में एक शिक्षक पर छात्रों की संख्या 40 से अधिक व 20 से कम न हो। आदेश में यह भी स्पष्ट है कि किसी भी कीमत पर कोई विद्यालय एकल व बंद नहीं होगा। साथ ही कोई जूनियर विद्यालय विज्ञान व गणित के शिक्षकों से खाली नहीं रहेगा।

कनिष्ठतम शिक्षकों को छोड़ना होगा विद्यालय: आवश्यकता से अधिक शिक्षक होने पर कनिष्ठतम शिक्षक को दूसरे विद्यालय पर समायोजित किया जाएगा। कोशिश होगी कि उन्हें उसी विकास खंड के किसी नजदीकी विद्यालय पर समायोजित किया जाए, लेकिन शहर से सटे विकास खंडों में यह आसान नहीं होगा। जिन विद्यालयों पर आवश्यकता से अधिक शिक्षक होंगे, वहां कहीं और से कोई शिक्षक नहीं आ सकेगा। परस्पर (म्यूचुअल) स्थानांतरण के जरिये ही ब्लाक बदल सकते हैं, लेकिन इसमें भी नजदीक के ब्लॉक को कोई छोड़ना नहीं चाहेगा। आदेश आने के बाद से ही शिक्षक परस्पर स्थानांतरण के लिए साथी खोजने में जुटे हैं।

जनपद के भीतर समायोजन व परस्पर स्थानांतरण का आदेश आया है। जल्द ही प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। इसके लिए गठित समिति नियमानुसार समायोजन करेगी।1भूपेंद्र नारायण सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारीजिलाधिकारी की अध्यक्षता में बनेगी समिति

जनपद के भीतर स्थानांतरण के लिए डीएम की अध्यक्षता में समिति बनेगी। बीएसए सचिव होंगे, एक सदस्य डायट प्राचार्य द्वारा नामित होगा। एक सदस्य के रूप में खंड शिक्षा अधिकारी मुख्यालय होंगे। समायोजन का अंतिम निर्णय समिति ही करेगी।बेसिक शिक्षा विभाग के लिए भी होगी बड़ी

अंतर जनपदीय स्थानांतरण के जरिये गोरखपुर आए शिक्षकों को तो विद्यालय आवंटित कर दिए, गए लेकिन अधिकारियों के लिए यह काम काफी पूर्ण था। अब जनपद के भीतर स्थानांतरण भी बड़ी लेकर आएगा।



aasan nahi shahar ke nazdik school pana
July 23, 2018

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget