Jul 22, 2018

समस्याओं से घिरा प्राथमिक विद्यालय हरनाखुरी

समस्याओं से घिरा प्राथमिक विद्यालय हरनाखुरी
samsyaon se ghira prathmik vidyalay harnakhori

बाउंड्री न हैंडपंप, सफाई व्यवस्था भी रहती ध्वस्त, उपेक्षित शौचालय नहीं है प्रयोग करने के लायक


जागरण संवाददाता, भनवापुर-डुमरियागंज, सिद्धार्थनगर : परिषदीय विद्यालयों की दशा सुधारने के लिए हर वर्ष सरकार द्वारा हजारों करोड़ रुपये खर्च किए जाते हैं। कागजों में विभाग द्वारा शिक्षा व्यवस्था में सुधार के तमाम दावे किए जाते है, परंतु धरातल पर हकीकत कुछ और ही बयां हो रही है।

Basic Shiksha Latest News, Basic Shiksha current News, Basic Shiksha News

ऐसा ही एक विद्यालय हरनाखुरी गांव का है। भनवापुर विकास खंड कार्यालय से महज चार किमी दूर स्थित ये प्राथमिक विद्यालय समस्याओं से घिरा है। बाउंड्रीवाल नहीं है, तो हैंडपंप बेमतलब है। गंदगी का भी हर तरफ बोलबाला है। विद्यालय में करीब 75 बच्चों का नामांकन है, जिनको पढ़ाने की जिम्मेदारी सिर्फ एक शिक्षा मित्र सुखराम यादव के भरोसे है। विद्यालय में चहार दीवारी की व्यवस्था न होने से बच्चों के ऊपर हमेशा खतरा बना रहता है। वही हैंडपंप खराब होने से पीने के पानी की भी दिक्कत रहती है। छात्रों व रसोइयों को पानी के लए स्कूल के बाहर गांव में जाना पड़ता है। शौचालय भी साफ़-सफाई के अभाव में बंद रहता है। छात्रों समेत विद्यालय स्टाफ को शौच के लिए तरह-तरह की परेशानियों से दो-चार होना पड़ता है। अभिभावकों में राम हित, सनोज, प्रेम कुमार, जितेंद्र, किशोर, दिलीप, जवाहिर आदि ने विद्यालय व्यवस्था में सुधार की मांग की है। नवागत बीईओ अनिल कुमार मिश्र ने बताया कि अभी वह कल ही आए हैं, पता करवाते हैं। फिर जो संभव हो सकेगा, वह कार्रवाई करेंगे।

बीईओ ने एक और विद्यालय कराया बंद :पथरा, बांसी सिद्धार्थनगर : गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयों के विरुद्ध चल रहे अभियान के तहत शनिवार को विकास खंड मिठवल अन्तर्गत सेहरी चौराहे पर स्थित अवैध रूप से चल रहे एक और स्कूल बंद करा दिया गया1शनिवार को राजस्व निरीक्षक राजदीप यादव,व खंड शिक्षा अधिकारी पंकज मौर्य गैर मान्यता वाले विद्यालयों की जांच के दौरान शहरी चौराहे पर स्थित लार्ड बुद्धा पब्लिक स्कूल पर पहुंचे और कागजात का जांच किया अभय पाए जाने पर उसे तत्काल बंद करवा दिया गया । टीम ने कहा किया अभियान चलता रहेगा।

जागरण संवाददाता, भनवापुर-डुमरियागंज, सिद्धार्थनगर : परिषदीय विद्यालयों की दशा सुधारने के लिए हर वर्ष सरकार द्वारा हजारों करोड़ रुपये खर्च किए जाते हैं। कागजों में विभाग द्वारा शिक्षा व्यवस्था में सुधार के तमाम दावे किए जाते है, परंतु धरातल पर हकीकत कुछ और ही बयां हो रही है।1ऐसा ही एक विद्यालय हरनाखुरी गांव का है। भनवापुर विकास खंड कार्यालय से महज चार किमी दूर स्थित ये प्राथमिक विद्यालय समस्याओं से घिरा है। बाउंड्रीवाल नहीं है, तो हैंडपंप बेमतलब है। गंदगी का भी हर तरफ बोलबाला है। विद्यालय में करीब 75 बच्चों का नामांकन है, जिनको पढ़ाने की जिम्मेदारी सिर्फ एक शिक्षा मित्र सुखराम यादव के भरोसे है। विद्यालय में चहार दीवारी की व्यवस्था न होने से बच्चों के ऊपर हमेशा खतरा बना रहता है। वही हैंडपंप खराब होने से पीने के पानी की भी दिक्कत रहती है। छात्रों व रसोइयों को पानी के लए स्कूल के बाहर गांव में जाना पड़ता है। शौचालय भी साफ़-सफाई के अभाव में बंद रहता है। छात्रों समेत विद्यालय स्टाफ को शौच के लिए तरह-तरह की परेशानियों से दो-चार होना पड़ता है। अभिभावकों में राम हित, सनोज, प्रेम कुमार, जितेंद्र, किशोर, दिलीप, जवाहिर आदि ने विद्यालय व्यवस्था में सुधार की मांग की है। नवागत बीईओ अनिल कुमार मिश्र ने बताया कि अभी वह कल ही आए हैं, पता करवाते हैं। फिर जो संभव हो सकेगा, वह कार्रवाई करेंगे।

बीईओ ने एक और विद्यालय कराया बंद

पथरा, बांसी सिद्धार्थनगर : गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयों के विरुद्ध चल रहे अभियान के तहत शनिवार को विकास खंड मिठवल अन्तर्गत सेहरी चौराहे पर स्थित अवैध रूप से चल रहे एक और स्कूल बंद करा दिया गया1शनिवार को राजस्व निरीक्षक राजदीप यादव,व खंड शिक्षा अधिकारी पंकज मौर्य गैर मान्यता वाले विद्यालयों की जांच के दौरान शहरी चौराहे पर स्थित लार्ड बुद्धा पब्लिक स्कूल पर पहुंचे और कागजात का जांच किया अभय पाए जाने पर उसे तत्काल बंद करवा दिया गया । टीम ने कहा किया अभियान चलता रहेगा।1बाउंड्री विहीन प्राथमिक विद्यालय हरनाखुरी ’ जागरणउपेक्षित स्कूल का शौचालय ’ जागरण

samsyaon se ghira prathmik vidyalay harnakhori

चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|