Jul 24, 2018

परिषदीय विद्यालयों में अब कठपुतलियों से होगी पढ़ाई, हरदोई के साथ लखीमपुर में शुरू होगी खास योजना

विद्यालयों में अब कठपुतलियों से होगी पढ़ाई
vidyalayon me ab kathputaliyon se hogi padhai

हरदोई के साथ लखीमपुर में शुरू होगी खास योजना ,10-10 शिक्षक शिक्षिकाओं को नई दिल्ली में मिलेगा प्रशिक्षण


जासं, हरदोई : परिषदीय विद्यालयों में बच्चों को रुचिकर शिक्षा देने के लिए विशेष योजना बनाई गई है। कठपुतलियों एवं अन्य सांस्कृतिक माध्यमों से बच्चों को पढ़ाया जाएगा। सांस्कृतिक स्नोत एवं प्रशिक्षण केंद्र नई दिल्ली की ओर से संचालित की गई इस खास योजना की शुरुआत हरदोई और लखीमपुर से हो रही है। इसके लिए दोनों जिलों से 10-10 शिक्षक-शिक्षिकाओं को नई दिल्ली में विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा और फिर जिला स्तर पर अध्यापक प्रशिक्षित होंगे।

ग्रामीण क्षेत्रों के परिषदीय विद्यालयों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को लेकर सरकार गंभीर है। विद्यालयों में तमाम कार्यक्रम संचालित हो रहे हैं। बच्चों का विद्यालयों के प्रति रुझान बढ़ाने के लिए मिड्डे मील से लेकर अन्य आकर्षक कार्यक्रम चल रहे हैं। उसके बाद भी विद्यालयों में बच्चों की उपस्थित नहीं बढ़ पा रही है। कारण जो भी हो, लेकिन बच्चे विद्यालयों में ठहरते नहीं हैं। विद्यालयों के प्रति बच्चों को आकर्षित करने और उन्हें खेल-खेल में अच्छी शिक्षा देने के लिए राष्ट्रीय शोध एवं प्रशिक्षण केंद्र नई दिल्ली की तरफ से कठपुतली और सांस्कृतिक माध्यमों से शिक्षा शुरू की जा रही है। प्रशिक्षण केंद्र के निदेशक गिरीश जोशी की तरफ से निदेशक राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद लखनऊ को पत्र भेजा गया था और निदेशक की तरफ से इस खास कार्यक्रम के लिए हरदोई और लखीमपुर को चुना गया है। दोनों जिलों से 10-10 शिक्षक-शिक्षिकाओं को 24 सितंबर से नौ अक्टूबर तक होने वाले प्रशिक्षण के लिए नई दिल्ली बुलाया गया है।

जिला समन्वयक सामुदायिक सहभागिता राजीव मिश्र ने बताया कि इस खास कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चों को रुचिकर शिक्षा देना है, जिससे विद्यालय के प्रति बच्चों का ध्यान बढ़े। उन्होंने बताया कि शुरुआती दौर में 10-10 शिक्षक-शिक्षिकाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा और मास्टर ट्रेनर के रूप में यह लोग जिला स्तर पर और फिर उसके बाद ब्लाक स्तर पर अध्यापकों को प्रशिक्षित करेंगे। जिला समन्वयक ने बताया कि स्मार्ट अध्यापकों का चिह्नीकरण कर उन्हें प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा।

vidyalayon me ab kathputaliyon se hogi padhai

चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|