Jul 25, 2018

शिक्षामित्र की मौत, साथी बोले-अवसाद में था

शिक्षामित्र की मौत, साथी बोले-अवसाद में था
shikshamitra ki maut, sathi bole-avsad me tha

संसू, राही (रायबरेली) : भदोखर थाना क्षेत्र के जफरापुर में सोमवार रात शिक्षामित्र की घर में ही मौत हो गई। शिक्षामित्र संगठन के नेताओं का कहना है कि समायोजन रद्द होने से वह अवसादग्रस्त था, जबकि उसके बड़े भाई का कहना है कि किडनी खराब होने की वजह से जान गई।

गांव निवासी रज्जनलाल (40) पुत्र रामआसरे प्राथमिक विद्यालय रजवापुर में शिक्षा मित्र के पद पर तैनात थे। शिक्षामित्र के बड़े भाई छेदी लाल ने बताया कि रज्जन कि किडनी खराब थी, जिसका इलाज केजीएमयू लखनऊ से चल रहा था। जानकारी मिलते ही उसके साथी भी पहुंच गए। शिक्षामित्र संगठन के जिलाध्यक्ष अजीत सिंह ने बताया कि उनका साथी रज्जन लाल समायोजन रद्द होने के बाद से अवसाद में चला गया था। उसने जमीन खरीदी थी, जिसका 10 लाख रुपया लोन था। समायोजन रद्द होने के बाद से रज्जनलाल उस लोन को अदा करने को लेकर बेहद परेशान रहता था।

शहर से लौटना था पड़ा गांव: रज्जनलाल के साथ किस्मत ने भी कई खेल खेले। पहले अगस्त 2014 में समायोजन हुआ तो 2017 में कोर्ट के आदेश पर समायोजन के रद्द कर दिया गया। इस बीच उसने 8 से 10 लाख का लोन बैंक से लिया था। समायोजन रद्द होते ही पत्नी ने भी उसका साथ छोड़ दिया। रज्जनलाल अपने दो बच्चों सूरज (15) व नीरज (8) के साथ रहता था। पहल वह रायबरेली में किराये के मकान में रहता था। बाद में समायोजन रद्द होने पर आर्थिक तंगी के चलते गांव लौटना पड़ा। इसी महीने महाराजगंज में एक शिक्षामित्र ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। उस घटना से शिक्षामित्र परेशान थे, घर पहुंचे शिक्षामित्र रज्जन की बेबसी पर रो रहे थे। किसी तरह अंतिम संस्कार की सामान का इंतजाम किया गया। इस अवसर पर संगठन प्रभारी अजय प्रताप सिंह, पवन कुमार, संकठा प्रसाद, रजनीश पांडेय, अनवर खां, इस्लाम अली, नीरज श्रीवास्तव, उमेश आदि मौजूद रहे। मामले में एबीआरसी राम महेश ने बताया कि रज्जन लाल का समायोजन रद हो चुका था। वहीं, भदोखर एसओ एके तिवारी ने बताया कि मामला संज्ञान में नहीं है।

shikshamitra ki maut, sathi bole-avsad me tha

चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|