परिषदीय विद्यालय में चलता मिला इस्लामिया स्कूल

परिषदीय विद्यालय में चलता मिला इस्लामिया स्कूल
parishadiy vidyalay me chalta mila islaamiya school

महराजगंज के बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारी परतावल को सौंपी जांच, 55 बच्चे हैं नामांकित, शुक्रवार को होती छुट्टी

इस्लामिया स्कूल नामकरण को लेकर खंगाले जा रहे रिकार्ड 1देवरिया: सलेमपुर के प्राथमिक विद्यालय नवलपुर का नाम इस्लामिया प्राइमरी स्कूल किए जाने के मामले में पुराने रिकार्ड खंगाले जा रहे हैं। अभी तक पता नहीं चल सका है कि इस्लामिया प्राइमरी स्कूल कब से अंकित किया जा रहा है। डीएम के निर्देश पर अब यह विद्यालय शुक्रवार को खुलेगा व रविवार को बंद रहेगा। वहीं जनपद में छह से अधिक प्राथमिक विद्यालयों के नाम इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय रखने का मामला सामने आने पर बेसिक शिक्षा विभाग हरकत में है।

बीएसए ने विभागीय दिशा-निर्देशों के मुताबिक विद्यालयों को संचालित कराने का निर्देश दिया है। इसके लिए सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को सख्त हिदायत दी है। सलेमपुर के इस्लामिया प्राइमरी स्कूल नवलपुर सुर्खियों में आने के बाद अब जनपद के सभी ब्लाकों में इस तरह के संचालित विद्यालयों की खोजबीन शुरू होने पर इनका पता चला है। भलुअनी के जैतपुरा, रामपुर कारखाना के करजहां, ईश्वरी पोखर¨भडा, शामी पट्टी व देसही देवरिया में भी इस तरह के विद्यालय संचालित हो रहे हैं। वहीं जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने नवलपुर में इस्लामिया स्कूल नाम से प्राथमिक विद्यालय संचालित किए जाने के प्रकरण में बीएसए से रिपोर्ट मांगी है। बीएसए के निर्देश पर खंड शिक्षा अधिकारी सलेमपुर ने प्रधानाध्यापक खुर्शेद अहमद से स्पष्टीकरण मांगा है, लेकिन अभी प्रधानाध्यापक का जवाब नहीं आया है। इस संबंध में बीएसए संतोष कुमार देव पांडेय ने बताया कि सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखकर शासन के दिशा-निर्देशों के मुताबिक संचालित कराने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि यदि इसके बाद भी यह विद्यालय नियम विरुद्ध तरीके से संचालित होते हैं तो इसकी जिम्मेदारी खंड शिक्षा अधिकारी की होगी और उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

जागरण संवाददाता, भिटौली, महराजगंज: देवरिया में अभी प्राथमिक विद्यालयों को इस्लामिया स्कूल में तब्दील करने का मामला चल ही रहा था कि महराजगंज जिले के परतावल विकास खंड में स्थित जद्दू पिपरा में भी इसी तरह का मामला प्रकाश में आया है।

गांव में स्थित स्कूल इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय जद्दू पिपरा के नाम से जाना जाता है। यहां व्यवस्था का संचालन परिषदीय विद्यालयों की तरह है लेकिन यह स्कूल शुक्रवार को बंद रहता है और रविवार को पढ़ाई होती है। शुक्रवार को स्कूल खोलने को लेकर स्थानीय लोगों द्वारा कई बार संबंधित विभाग में शिकायत भी की गई लेकिन हर स्तर पर अनसुनी होने से यह विद्यालय मनमाने र्ढे पर चल रहा है।

वर्तमान में इस विद्यालय में 55 बच्चों का नामांकन है। ग्रामीणों की माने तो आजादी पूर्व 1931 से यहां स्कूल का संचालन होता आया है। बाद में विभाग द्वारा परिषदीय स्कूल खोला गया तो इसे इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय जद्दू पिपरा नाम दे दिया गया। दशकों पूर्व तत्कालीन ग्राम प्रधान व प्रधानाध्यापक की सहमति से इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय में शुक्रवार के दिन छुट्टी और रविवार के दिन पढ़ाई का निर्णय लिया गया। तभी से शुक्रवार को स्कूल बंद करने की परंपरा चली आ रही है। विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक तीर्थराज प्रसाद ने कहा कि शुक्रवार की जगह रविवार को छुट्टी करने के लिए कई बार विभागीय अधिकारियों से गुहार लगाई गई, लेकिन अब तक कहीं से कोई दिशा निर्देश नहीं मिला। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी जगदीश प्रसाद शुक्ल ने कहा कि मामला उनके संज्ञान में है। यदि बेसिक शिक्षा परिषद से इस विद्यालय का संचालन हो रहा है तो छुट्टी रविवार को होनी चाहिए। इस संबंध में परतावल के खंड शिक्षा अधिकारी को जांच सौंपी गई है। जांच रिपोर्ट मिलने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।



parishadiy vidyalay me chalta mila islaamiya school
July 23, 2018

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget