Jul 25, 2018

स्कूल छोड़ आज धरने पर बैठेंगे शिक्षक, बिना पढ़े ही स्कूलों से लौट रहे 9087 बच्चे

स्कूल छोड़ आज धरने पर बैठेंगे शिक्षक
school chhod aaj dharne par baithenge shikshak

बिना पढ़े ही स्कूलों से लौट रहे 9087 बच्चे

जागरण संवाददाता, उन्नाव : मानदेय बढ़ोत्तरी के साथ एक समान अधिकार पाने के लिए जिले के शिक्षक आज शिक्षा भवन परिसर में जुटेंगे। ऐसे में एडेड और निजी कॉलेज की पढ़ाई चौपट रहेगी। शिक्षकों का धरना प्रदर्शन दो दिन तक चलेगा। मांग पूरी न होने की सूरत में लड़ाई आगे भी जारी रखने की चेतावनी मंगलवार को शासन और प्रशासन को उप्र माध्यमिक शिक्षा संघ ने दी है।

शिक्षक संघ (चंदेल गुट) से जुड़े हजारों शिक्षकों द्वारा लंबे समय से वित्त विहीन शिक्षकों को सम्मानजनक मानदेय दिलाने की मांग शासन से की जा रही है। हर बार उन्हें भरोसा देकर शांत करा दिया जाता। जुलाई के पहले सप्ताह में आंदोलित शिक्षकों ने पूर्व के वायदों को दोहराते हुए गुरुवार शिक्षा भवन डीआइओएस कार्यालय के सामने धरना-प्रदर्शन की चेतावनी दी है। शिक्षक नेताओं ने बताया कि प्रांतीय नेतृत्व से कई चक्रों में सकारात्मक वार्ता के बावजूद शिक्षकों की बात अनसुनी की जा रही है। वर्ष 2005 के बाद नियुक्त शिक्षकों व कर्मियों को पुरानी पेंशन योजना से दूर रख गया है। चिकित्सा सुविधा के लिए कई बार ज्ञापन और प्रदर्शन किए गए। हर बार मांगों को आश्वासन में टाल दिया जाता है। इस बार की लड़ाई आर-पार की होगी।

शिक्षक नेताओं ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि वह लंबित मांगों को मना कर रहेंगे। इसके लिए उन्हें उग्र भी होना पड़ा तो वह तैयार हैं। जिले में 58 एडेड कॉलेज और 283 प्राइवेट हैं। धरना प्रदर्शन में शिक्षक विधायक राजबहादुर सिंह चंदेल और जिलाध्यक्ष देवस्वरूप त्रिवेदी सहित रमेश कुमार गौतम, धीरेंद्र कुमार शुक्ल, वीरेंद्र सिंह, पवन त्रिवेदी के साथ हजारों शिक्षक शामिल होंगे।

जागरण संवाददाता, उन्नाव : इंग्लिश मीडियम के लिए चिह्न्ति स्कूलों में 60 स्कूल के बच्चे बगैर पढ़े स्कूल से लौट रहे हैं। ऐसे में पढ़ने के लिए दाखिला लिए बैठे बच्चों का भविष्य चौपट दिख रहा है। प्रभावित होते सत्र के प्रति बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारी सजग नहीं दिख रहे हैं। स्कूलों में 63 प्रधान और 263 सहायक अध्यापक की जरूरत है। प्रत्येक ब्लाक स्तर पांच-पांच इंग्लिश मीडियम स्कूल शैक्षिक सत्र 2018-19 में संचालित होने थे।

ब्लाकवार स्कूल चिह्न्ति हुए और बच्चों को दाखिला दिलाया गया। फरवरी से यह कोशिश जिले स्तर पर शुरू हो गई थी। यह सारी मेहनत इंग्लिश पढ़ाने वाले शिक्षकों के न मिलने पर बेअसर रही है। नगर के साथ 16 विकास खंड के 9 ब्लाक के स्कूल अभी तक संचालित नहीं हो सके हैं। करीब 9087 बच्चे पंजीकृत है। जुलाई में 24 दिन के साथ बीते 50 दिनों की पढ़ाई अभी तक प्रभावित हुई है। वहीं, विकास खंडवार शिक्षकों से मांगे गए आवेदन अभी भी अधूरे हैं। 98 सीटों पर आवेदन न आने की वजह से यह इंतजार और बढ़ता जा रहा है। सिकंदरपुर कर्ण ब्लाक के अंबेडकर नगर सहित मगरवारा, अचलगंज-2 में एक-एक सहायक अध्यापक की जरूरत है। वहीं शुक्लापुर, बेथर एक में दो- दो सहायक अध्यापक की सीटें खाली हैं। अन्य ब्लाकों में भी यह स्थिति बनी है। बीएसए बीके शर्मा के अनुसार इंग्लिश स्कूलों के लिए शिक्षकों से आवेदन लिए जा रहे हैं। 25 स्कूल संचालित हैं।

63 प्रधान और 263 सहायक अध्यापक की जरूरत

अभी तक 74 दिन की पढ़ाई हो चुकी है प्रभावित

निजी और एडेड स्कूलों की कक्षाएं सबसे ज्यादा होंगी प्रभावित

मानदेय बढ़ोत्तरी व समान अधिकार को लेकर करेंगे प्रदर्शन

school chhod aaj dharne par baithenge shikshak


चेतावनी

इस ब्लॉग की सभी खबरें सोशल मीडिया से ली गई हैं, कृपया खबर का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें| इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है| पाठक ख़बरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा|