बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

अप्रैल 28, 2018

इलाहाबाद: : प्रदेश के 1158 कालेजों को यूपी बोर्ड की मान्यता

इलाहाबाद : प्रदेश भर के 1158 नए माध्यमिक कालेज इसी सत्र से संचालित हो सकेंगे। के प्रस्ताव पर शासन ने मुहर लगा दिया है। इसमें सबसे अधिक 299 कालेज मेरठ और सबसे कम 122 कालेज बरेली क्षेत्रीय कार्यालय परिक्षेत्र में खुलेंगे। जबकि इलाहाबाद में 245 कालेज खुलेंगे। मान्यता के प्रमाणपत्र मुख्यालय से पांचों क्षेत्रीय कार्यालयों को भेजे जा रहे हैं, अगले सप्ताह से इनका वितरण शुरू होगा।
माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी ने इस बार माध्यमिक कालेजों को मान्यता देने के लिए पारदर्शी व्यवस्था लागू की थी। शासन के निर्देश पर जुलाई माह से ऑनलाइन आवेदन लिए गए और उनका सत्यापन जिला विद्यालय निरीक्षकों ने भी करके ऑनलाइन रिपोर्ट लगाई। इसके बाद मान्यता निर्गत करने में बोर्ड में मनोनीत सदस्यों का न होना आड़े आ रहा था। इसके लिए लंबे समय तक मनोनीत सदस्यों की तैनाती की राह देखी गई। उसके बाद शासन के निर्देश पर मार्च माह में तीन दिन तक क्षेत्रीय कार्यालय वार बैठक हुई और सभी आवेदनों की गहनता से स्क्रीनिंग की गई। यह बैठक चार दिन तक चली। इसमें जिन कालेजों के प्रपत्र व मान्यता की अन्य शर्ते पूरा नहीं थी, उनके आवेदन निरस्त कर दिए गए हैं। अब वह प्रपत्र पूरा करके फिर से आवेदन कर सकते हैं। अप्रैल के पहले हफ्ते में बोर्ड ने सभी प्रकरण शासन को भेजे।
बोर्ड के अपर सचिव शिवलाल ने बताया कि बोर्ड के प्रस्ताव पर शासन ने मुहर लगा दी है। सभी 1158 नए माध्यमिक कालेजों को मान्यता देने के निर्देश हुए हैं। अनुमोदित सूची बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड करा दी गई है।


इलाहाबाद: : प्रदेश के 1158 कालेजों को यूपी बोर्ड की मान्यता Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।