बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

जनवरी 07, 2018

यूपीपीएससी की जांच:आयोग के पूर्व अधिकारियों को भी सच्चाई का इंतजार

लोक सेवा आयोग पूर्व अध्यक्ष और पूर्व परीक्षा नियंत्रक ने सीबीआइ जांच की नौबत पर व्यवस्था में बताई खामियां, मची खलबली

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : प्रशासनिक सेवाओं में काबिल अफसरों का चयन करके देने वाली परीक्षा संस्था उप्र लोकसेवा आयोग में धांधली के गंभीर आरोप और इसकी सीबीआइ जांच तक आने की नौबत पूरी निष्पक्षता से आयोग का संचालन करने वाले पूर्व अधिकारियों में जहां खलबली मची है। चयन में गड़बड़ी होने के आरोपों से आयोग के सुनहरे अतीत पर चोट पहुंची है। वहीं, दूसरी ओर वह अफसर भी आहत हैं जिन्होंने अपनी कार्यशैली से समाज के बीच आयोग को बेहतरीन पहचान दी।

चुल्लू भर पानी में डूब के मर जाऊं’ :

आयोग के चार साल तक अध्यक्ष रहे प्रो. केबी पांडेय ने भर्तियों की सीबीआइ जांच पर दुख जताया है। कहा कि विधानसभा से पारित हुए एक्ट का कहीं न कहीं उल्लंघन हुआ है, तभी प्रतियोगियों में बड़ा असंतोष है। यूपीपीएससी के एक्ट की मजबूती का हवाला देते हुए बताया कि इससे प्रभावित होकर कई राज्यों ने इस एक्ट की मांग की। इसी अनुसार दूसरे राज्यों में आयोगों के एक्ट बने। उन्होंने कहा कि 2001 में पीसीएस परीक्षा कराई थी। उसमें स्केलिंग पर सवाल उठाकर कुछ प्रतियोगी हाईकोर्ट चले गए थे। हाईकोर्ट ने आयोग को निर्देश दिया कि स्केलिंग में बदलाव कर रिजल्ट घोषित किया जाए। तब लगा कि यह तो मेरे लिए चुल्लू भर पानी में डूब मर जाने वाली बात है। फिलहाल हाईकोर्ट के इस निर्णय को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के निर्णय को रद कर दिया तब दिल को सुकून मिला। कहा कि हाईकोर्ट का निर्णय अगर सुप्रीम कोर्ट भी सही ठहरा देता तो मैंने सोच लिया था कि खुद को अक्षम मानते हुए इस्तीफा दे दूंगा, लेकिन भगवान ने लाज रख ली।

अवैध तरीके से भर्ती होंगे तो कैसे निभाएंगे दायित्व’

यूपीपीएससी के पूर्व परीक्षा नियंत्रक और सचिव रह चुके बादल चटर्जी (सेवानिवृत्त आइएएस) कहते हैं कि पीसीएस के साक्षात्कार में एक जाति विशेष के प्रतियोगियों का अंक लगातार बूम कराना हर किसी के मन में संदेह पैदा करेगा। वही, असंतोष उन प्रतियोगियों के मन में भी हुआ जो चयन सूची में शामिल होने के लायक थे। मनमाने ढंग से तैयार रैंकिंग में भारी अंतर से लायक प्रतियोगी पीछे रह जाते हैं और निम्न योग्यता रखने वाले छात्रों को आगे बढ़ने का मौका मिल जाता है। प्रशासनिक अफसरों के पद पर लोग जब अवैध तरीके से आएंगे तो समाज के प्रति वे अपना दायित्व कैसे निभा सकते हैं। कहा कि सीबीआइ जांच में इसकी सच्चाई उजागर होनी आवश्यक है। उन्होंने यह भी कहा कि आयोग में जब सामान्य लोगों की नियुक्ति होगी तो समाज उससे उम्मीद भी क्या कर सकता है।

यूपीपीएससी की जांच:आयोग के पूर्व अधिकारियों को भी सच्चाई का इंतजार Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Staff

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।