बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

दिसंबर 14, 2017

छात्र ने फोन पर की शिकायत कहा- न सर आए न मैडम, शिक्षिका का कटा वेतन

बदायूं : कक्षा पांच के बच्चे की शिकायत पर शिक्षिका पर वेतन कटौती की कार्रवाई की गई है। इसके अलावा अन्य विद्यालयों में अनुपस्थित रहने वालों का भी वेतन काटा गया है। उपस्थिति रजिस्टर से छेड़छाड़ करने वाली शिक्षिका पर वेतन काटने के साथ-साथ प्रतिकूल प्रविष्टि की कार्रवाई की गई है। मारपीट में दो शिक्षकों की वेतन वृद्धि रोकी गई है। विकास क्षेत्र उझानी के प्राथमिक विद्यालय फतेहपुर के छात्र ने बीएसए को फोन करके विद्यालय बंद होने की सूचना दी। खंड शिक्षा अधिकारी से कराई गई जांच में शिकायत पुष्ट हुई। जांच में बताया कि अनुपस्थित रहने के कारण शिक्षक मोहर सिंह का अक्टूबर महीने से वेतन रुका हुआ है। कासगंज की रहने वाली प्रीति दिनकर अनुपस्थित मिलीं। उनका एक दिन का वेतन काटा गया। विकास क्षेत्र म्याऊं के प्राथमिक विद्यालय ढका की शिक्षामित्र रंजना कुमारी, अनीता यादव, राधा यादव का एक दिन का मानदेय काटा गया है। विकास क्षेत्र आसफपुर के पूर्व माध्यमिक विद्यालय खेड़ादासपुर में इंचार्ज प्रधानाध्यापक व अन्य शिक्षक की वेतन वृद्धि रोकी गई है। सादुल्लानगर प्राथमिक विद्यालय समय से न खुलने व न ही समय से बंद होने पर शिक्षिका चंदाबी व शिक्षामित्र नेत्रपाल सिंह पर वेतन व मानदेय काटने की कार्रवाई हुई है। विकास क्षेत्र कादरचौक के मुंशीनगला प्राथमिक विद्यालय के पूरे स्टाफ का वेतन काटा गया है। खुडवारा विद्यालय के शिक्षामित्र भानुप्रकाश का 21 दिन का मानदेय काटा गया है। म्याऊं के विद्यालय गिल्टैया के प्रधानाध्यापक राजेश कुमार से स्पष्टीकरण मांगा गया है। विकास क्षेत्र उझानी के बीइओ की आख्या के आधार पर अभिलेखों से छेड़छाड़ करने वाली धौरेरा की प्रधानाध्यापक सुमन कुमारी का 43 दिन का वेतन काटने के अलावा प्रतिकूल प्रविष्टि दी गई है।

छात्र ने फोन पर की शिकायत कहा- न सर आए न मैडम, शिक्षिका का कटा वेतन Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।