बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

दिसंबर 23, 2017

समयोजन निरस्त होने के बाद हुए धरने में कितने ने गंवाई जान,कितनों को मिला मुवायजा ? विधान परिषद सदन में बेसिक शिक्षा मंत्री ने नही दिया जवाब,घिरीं बेसिक शिक्षा मंत्री,

लखनऊ : विधानपरिषद में शुक्रवार को फिर योगी सरकार के दो मंत्री विपक्ष के सवालों में फंस गए। बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल व पशुधन मंत्री एसपी सिंह बघेल विपक्ष के प्रश्नों का जवाब नहीं दे सके।

इस कारण इन दोनों के प्रश्न स्थगित कर दिए गए।
सपा के आनन्द भदौरिया ने बेसिक शिक्षा मंत्री से पूछा था कि शिक्षा मित्रों के धरना प्रदर्शन में अब तक कुल कितने शिक्षा मित्रों की जानें गईं हैं।

साथ ही सरकार ने उनको कितनी मुआवजा दिया है। इस पर मंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा कि सूचना एकत्र कराई जा रही है। मंत्री के जवाब से असंतुष्ट विपक्ष के सदस्य हंगामा करने लगे।

शिक्षक दल व निर्दलीय समूह के भी सदस्य कहने लगे कि इतने गंभीर मसले पर शिक्षा मंत्री अभी जानकारी ही एकत्र करवा रही हैं। सभापति ने बाद में इस प्रश्न को स्थगित कर दिया।

दूसरा प्रश्न कांग्रेस सदस्य दीपक सिंह का था। उन्होंने पशुधन मंत्री से पूछा कि क्या पहले थाना एवं ब्लॉक स्तर पर आवारा जानवरों को रखने व उनके *शिक्षामित्र समाचार मंच कौशाम्बी खाने के लिए कांजी हाउस की व्यवस्था थी।

इस पर मंत्री एसपी सिंह बघेल ने कहा कि विषय कई विभागों से संबंधित है इसलिए इसकी सूचना एकत्र कराई जा रही है।

दीपक सिंह ने अनुपूरक प्रश्न पूछा कि छुट्टा गायों के कारण अब तक कुल कितने लोग दुर्घटना का शिकार हुए हैं लेकिन इस प्रश्न का भी जवाब मंत्री नहीं दे पाए। सभापति ने इस प्रश्न को भी स्थगित कर दिया।

समयोजन निरस्त होने के बाद हुए धरने में कितने ने गंवाई जान,कितनों को मिला मुवायजा ? विधान परिषद सदन में बेसिक शिक्षा मंत्री ने नही दिया जवाब,घिरीं बेसिक शिक्षा मंत्री, Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Staff

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।