बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

दिसंबर 10, 2017

सीएम योगी की तस्वीर से सांकेतिक विवाह करने वाली महिला पर देशद्रोह का केस दर्ज, 14 दिन की जेल

टीम डिजिटल/अमर उजाला, लखनऊ
यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की तस्वीर से सांकेतिक तौर पर विवाह करने वाली आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ अध्यक्ष नीतू सिंह समेत चार नेताओं पर देशद्रोह का केस दर्ज कर उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।

वे लंबे समय से आंगनबाड़ी वर्कर्स का मानदेय बढ़ाने के लिए आंदोलन कर रही हैं। 5 दिसंबर को संघ अध्यक्ष नीतू सिंह ने सीएम योगी आदित्यनाथ की तस्वीर के साथ सांकेतिक विवाह किया था। उन्होंने कहा था कि उन्होंने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की समस्याओं की तरफ सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए ये किया।

कड़ी सुरक्षा के बीच शनिवार को चारों को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट पूनम सिंह की अदालत में पेश किया गया। सीजेएम ने चारों को जेल भेज दिया।

शुक्रवार को जब सीएम नैमिषारण्य आए थे तो नीतू सिंह तीन अन्य वर्कर्स के साथ मुख्यमंत्री के काफिले के बीच पहुंच गईं। इस पर पुलिस ने आंगनबाड़ी नेता नीतू सिंह, सरिता वर्मा, मंजू बंशवार, संतोष कुमारी को गिरफ्तार किया था। उनका कहना था कि वे 15 हजार रुपये महीने मानदेय न होने तक वे इस तरह से अपना आंदोलन जारी रखेंगी।

चारों पर सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने समेत राष्ट्रद्रोह जैसी गंभीर धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है। उधर, पुलिस अधिकारियों को संदेह था कि कहीं न्यायालय में पेशी के दौरान संगठन की अन्य महिलाएं उपद्रव न करें, इसको लेकर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी।

मामले पर सीतापुर सीओ योगेंद्र सिंह का कहना है कि आंगनबाड़ी संघ की चारों कार्यकर्ता बार-बार मार्ग जाम कर रहीं थी। कई बार कहने के बावजूद वे प्रदर्शन पर अड़ी हुईं थी। इसलिए इन पर कड़ी धाराओं में कार्रवाई की गई है।

सीएम योगी की तस्वीर से सांकेतिक विवाह करने वाली महिला पर देशद्रोह का केस दर्ज, 14 दिन की जेल Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Staff

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।