बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 11, 2017

इलाहाबाद : निदेशालय में पसरे रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार के विरोध में गरजे शिक्षक

हिन्दुस्तान टीम, इलाहाबाद । रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार के खिलाफ माध्यमिक शिक्षक संघ चेतनारायण गुट ने गुरुवार को शिक्षा निदेशालय में धरना दिया।

संगठन के प्रदेश अध्यक्ष और विधान परिषद सदस्य चेत नारायण सिंह ने कहा कि शिक्षा निदेशालय आकंठ भ्रष्टाचार में डूबा है।

बिना रिश्वत लिए शिक्षकों के स्थानान्तरण व एरियर भुगतान की पत्रावलियों का निस्तारण नहीं किया जा रहा है। वेतन अवशेष, बोर्ड परीक्षा मूल्यांकन व जीपीएफ भुगतान के लिए बजट आवंटन नहीं किया जा रहा है। पूर्व एमएलसी लवकुश मिश्रा ने कहा कि स्थानान्तरण व एरियर भुगतान के नाम पर निदेशालय में खुलेआम रिश्वत मांगी जा रही है।

प्रदेश के सभी 75 जनपदों से शिक्षक निदेशालय में रिश्वत मांगे जाने की शिकायत कर रहे हैं। प्रदेश मंत्री महेश चन्द्र यादव ने कहा कि कई जिलों से 2009 से सामूहिक जीवन बीमा के बकाए भुगतान नहीं होने की शिकायत मिली है। मंडल अध्यक्ष मनोज कुमार सिंह, प्रदेश मंत्री अनिरुद्ध त्रिपाठी ने कहा कि सरकार शिक्षक विरोधी हो गई है।

एरियर का भुगतान नवंबर तक नहीं होता तो आंदोलन करेंगे। धरना देने वालों में डॉ. महेन्द्र सिंह, रमेश सिंह, संजय द्विवेदी, ज्वाला प्रसाद राम, शिव सिंह परमार, विश्वनाथ सिंह, दिवाकर भारतीया, डॉ. हरिश्चन्द्र गुप्त, हबीबुर्रहमान, डॉ. प्रमोद गुप्ता, एनपी त्यागी, श्याम शंकर यादव, राम चन्द्र यादव, राम शंकर यादव, अरविन्द कुमार यादव, डॉ. जय शंकर सिंह, अनिल कुमार, केके यादव, डॉ. योगेन्द्र सिंह आदि शामिल थे।

इलाहाबाद : निदेशालय में पसरे रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार के विरोध में गरजे शिक्षक Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।