बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 08, 2017

यदि प्रदेश सरकार शिक्षक भर्ती करती है ऐसे में शिक्षा मित्रों का खुली भर्ती में अवसर,क्लिक कर जाने

शिक्षा मित्रों का खुली भर्ती में अवसर,
      कुल शिक्षा मित्र= 172000
  प्रदेश सरकार के अनुसार समायोजन रद्द होने से पूर्व प्राथमिक में अध्यापकों की स्थिति= 65000 सरप्लस
समायोजन रद्द होने के बाद रिक्त पद= 137000
  सरप्लस को हटाकर बचे पद
          =137000-65000
          =72000
  अर्थात् आज की स्थिति में राज्य सरकार कुल 72000 पदों से अधिक भर्ती नहीं करेगी।यह निश्चित है।और यह भर्ती भी वह एक बार में नहीं दो बार में करेगी।यह भी निश्चित है क्योंकि सरकार साफ कर चुकी है कि वह सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करेगी।और आदेश में शिक्षा मित्रों को दो लगातार भर्तियों में अवसर देने की बात कही गयी है।यह आप सभी जानते हैं।

       अब आकलन करते हैं कि इन पदों के सापेक्ष यदि पहली भर्ती लगभग 50000 पदों पर होती है तो क्या सम्भव है।

     ◆ पहली भर्ती :-

   पदों की संख्या =50000
उपलब्ध आवेदकों की संख्या-

      आंकड़ों के मुताबिक इस समय लगभग 30000 शिक्षा मित्र टेट पास हैं और मान लेते हैं कि आगामी टेट परीक्षा में 30000 शिक्षा मित्र और टेट पास कर लेते हैं।तब
       पात्र शिक्षा मित्रों की संख्या
                    = 60000
        पात्र बीटीसी  वालों की संख्या
                    = 75000
( जैसा कि बीटीसी वाले अपने ज्ञापनों में दर्शाये हैं)
    कुल अभ्यर्थियों की संख्या
        = 60000+75000
        =135000
     मतलब इन 135000 लोगों के बीच 50000 पदों के लिये मुकाबला होगा।

     आप समझ सकते हैं कि अभी इसमें क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर आरक्षण का प्रयोग भी होगा।चूँकि अब तक की भर्तियों में ऐसा होता आया है।

    इन आरक्षणों में से कुछ आरक्षण ऐसे हैं जो शिक्षा मित्रों के बिलकुल या काफी कम काम के हैं।जैसे कि स्वतन्त्रता सेनानी के आश्रित, एक्स सर्विसमेन और कुछ हद तक विज्ञान वर्ग का आरक्षण।क्योंकि अधिकतर शिक्षा मित्र कला वर्ग के हैं और जो विज्ञान वर्ग के हैं भी उनके सामने मेरिट में आने की बड़ी समस्या होगी यदि अच्छा भारांक नहीं मिला तो।

     माना कुल 5% पद शिक्षा मित्रों के किसी काम के नहीं हैं ।

    अर्थात् 2500 पद शिक्षा मित्रों के लिये नहीं हैं।तो शिक्षा मित्रों के पास मुकाबले के लिये बचे पद
         =50000-2500
         = 47500

   अब मैं मानता हूँ कि इनमे से अधिकतम 75% पदों पर शिक्षा मित्र भर्ती हो पाएंगे।वह भी अच्छा भारांक मिलने पर।

     अर्थात् पहली भर्ती में भर्ती होने वाले शिक्षा मित्रों की संख्या
              = 35000(लगभग)
        इसीप्रकार अवशेष 22000 पदों पर होने वाली भर्ती में यदि संख्या देखी जाय तो
             =15000(लगभग)

     अर्थात् दोनों भर्तियों में कुल भर्ती होने वाले शिक्षा मित्रों की संख्या=    35000+15000
          = 50000(लगभग)
    अवशेष शिक्षा मित्रों की संख्या
          =172000-50000
          =122000(लगभग)

        मेरे आकलन को देखकर आप यह अंदाजा लगा सकते हैं कि मैंने कोशिश की है कि अधिकतम शिक्षा मित्रों की भर्ती हो सके।तब भी 50000 से ज्यादा शिक्षा मित्रों को नौकरी मिलने नहीं जा रही है।

  सुप्रीम कोर्ट के आदेश में यह नहीं लिखा है कि सरकार को कितनी भर्ती करनी है अर्थात् पदों की संख्या को लेकर सरकार पूर्णतः स्वतन्त्र है और सरकार की अब तक की कार्य प्रणाली ये सिद्ध कर चुकी है कि वह भर्ती कम से कम करेगी।

        अब निर्णय आपको लेना है कि संघर्ष करना है या.......
      जो अवशेष शिक्षा मित्र रह जायेंगे अर्थात् 31 मार्च सन् 2019 तक जो टेट पास नहीं कर पाएंगे तो वे आज ही लिख लें कि 31 मार्च 2019 ही उनकी रिटायरमेंट की तारिख है।हाँ जो टेट पास हो जायेंगे वे सरकार की कृपा पर निर्भर रहेंगे कि आगे शिक्षा मित्र के रूप में उनकी सेवा जारी रहेगी या नहीं।

अर्थात् शिक्षा मित्र के रूप में 10000/- मानदेय स्वीकार करने पर भी आपकी लगभग डेढ़ वर्ष की सेवा और बची है।
         यदि मुझसे आकलन में कोई त्रुटि हुई हो तो क्षमा करें।
       धन्यवाद।

पोस्ट डिस्क्लेमर : उक्त तथ्य सोशल मीडिया में वारयल पोस्ट कॉपी पेस्ट मात्र है ।

यदि प्रदेश सरकार शिक्षक भर्ती करती है ऐसे में शिक्षा मित्रों का खुली भर्ती में अवसर,क्लिक कर जाने Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Staff

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।