बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 17, 2016

इस बार नीचे आया पीसीएस-जे प्री का कटऑफ    


इलाहाबाद
लोक सेवा आयोग ने उत्तर प्रदेश न्यायिक सेवा सिविल जज (जूनियर डिविजन) प्रारंभिक परीक्षा 2016 (पीसीएस जे प्री) का श्रेणीवार कट ऑफ अंक जारी किया है। इस बार सामान्य अभ्यर्थियों का कट ऑफ 286 अंक रहा। आयोग ने मंगलवार की शाम इस भर्ती परीक्षा का परिणाम घोषित किया था।

पीसीएस जे प्री में दो-दो अंक के विधि के 150 और एक-एक अंक से सामान्य अध्ययन के 150 प्रश्न पूछे जाते हैं। कुल 450 अंकों में सामान्य अभ्यर्थियों का कट ऑफ 286, ओबीसी का 273, एससी का 233 तो एसटी का 178 रहा। महिलाओं का कट ऑफ अंक सामान्य अभ्यर्थियों से दो अंक कम 284 रहा।

जानकारों का कहना है कि पिछले साल के मुकाबले इस बार सामान्य अभ्यर्थियों का कट ऑफ दस अंक नीचे आया है। संशोधित उत्तर कुंजी न जारी होने से आक्रोश पीसीएस जे प्री परिणाम के साथ संशोधित उत्तर कुंजी जारी न किए जाने से प्रतियोगियों में आक्रोश है।

प्रतियोगी छात्र संघर्ष समिति के मीडिया प्रभारी अवनीश पांडेय कहते हैं कि सितंबर 2014 में आयोग ने निर्णय लिया था कि प्री के परिणाम के साथ ही संशोधित उत्तर कुंजी जारी की जाएगी। बकौल अवनीश आयोग ने पहले इस प्रस्ताव को छिपाने का प्रयास किया।

लेकिन किसी माध्यम से प्रतियोगियों के हाथ इस प्रस्ताव की प्रति लग गई। अवनीश का कहना है कि एक याचिका के जरिए इस प्रस्ताव की जानकारी हाईकोर्ट को दी तो हाईकोर्ट के आदेश पर आयोग ने कुछ परीक्षाओं के परिणाम के साथ संशोधित उत्तर कुंजी जारी की थी।

आयोग ने हटाए थे छह गलत प्रश्न
पीसीएस जे प्री 2016 की उत्तर कुंजी 28 अक्तूबर को जारी की गई थी। गलत होने के कारण आयोग ने विधि के पांच और सामान्य अध्ययन के एक प्रश्न को हटा दिया था।

इस बार नीचे आया पीसीएस-जे प्री का कटऑफ     Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।