बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 07, 2016

बीपीएड पाठ्यक्रम के संचालन में मानकों का रोड़ा

प्रदेश के राज्य विश्वविद्यालयों से संबद्ध महाविद्यालयों में बीपीएड पाठ्यक्रम के संचालन में मानकों का रोड़ा सामने आ गया है। एक कुलपति की तरफ से उठाया गया यह प्रकरण फिलहाल राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) के पाले में है।

उत्तर प्रदेश स्ववित्तपोषित महाविद्यालय एसोसिएशन पहले से ही यह मामला उठाता रहा है। दरअसल मामले में पेंच यह है कि प्रदेश सरकार के बनाए नियम एनसीटीई के मानकों का पालन नहीं करने देते।

दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अशोक कुमार ने इस मामले में अपने स्तर से पहल करके एनसीटीई से मार्गदर्शन मांगा है।

एनसीटीई के चेयरमैन व निदेशक को भेजे अपने पत्र में कुलपति प्रो. कुमार ने कहा है कि एनसीटीई के अधिनियम 2014 के अनुसार स्नातक स्तर पर शिक्षा संकाय के अंतर्गत बीपीएड पाठ्यक्रम में एक प्राचार्य, दो एसोसिएट प्रोफेसर व छह असिस्टेंट प्रोफेसर होने चाहिए।

उधर प्रदेश सरकार की ओर से दी गई व्यवस्था के अनुसार किसी भी महाविद्यालय में प्रोफेसर व एसोसिएट प्रोफेसर का पद सृजित नहीं किया गया है। ऐसी स्थिति में विश्वविद्यालयों से संबद्ध महाविद्यालयों में बीपीएड पाठ्यक्रम के संचालन की व्यवस्था कैसे कराई जाए?

यही समस्या एमएड पाठ्यक्रम के संचालन में भी है। एमएड पाठ्यक्रम के लिए एनसीटीई ने दो प्रोफेसर, दो एसोसिएट प्रोफेसर व छह असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति की अनिवार्यता कर रखी है। इसके विपरीत शासन के नियमानुसार महाविद्यालयों में इन पदों पर नियुक्ति ही नहीं की जा सकती

बीपीएड पाठ्यक्रम के संचालन में मानकों का रोड़ा Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।