बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 04, 2016

कालेजों के शिक्षकों को समय से वेतन देने की मांग


इलाहाबाद : इलाहाबाद विश्वविद्यालय संगठक महाविद्यालय संघ (आक्टा) की बैठक गुरुवार को सीएमपी डिग्री कालेज में हुई। इसमें पीएचडी वृद्धि निर्धारण पर आक्रोश व्यक्त किया गया।

शिक्षकों का कहना है कि विश्वविद्यालय प्रशासन पीएचडी वृद्धि निर्धारण नहीं कर पाया है। कहा कि मामले को जानबूझकर उलझाया जा रहा है।

प्रोन्नत शिक्षकों के वेतन निर्धारण और गलत पीएचडी वृद्धि निर्धारण के सन्दर्भ में हुई प्रगति के बारे में सदस्यों को बताया गया। साथ ही उम्मीद जताई गई कि कुलपति के सहयोग से बहुत जल्द ही ये दोनों कार्य पूरा हो जायेंगे।

बैठक में मांग की गई कि संगठक महाविद्यालयों के शिक्षकों और कर्मचारियों को महीने की पहली तारीख तक वेतन दे दिया जाए। कुछ सदस्यों ने मेडिकल बिलों के भुगतान में होने वाली देरी मुद्दा का उठाया। कहा कि विश्वविद्यालय के कर्मचारी और अधिकारी जानबूझकर इस में अवरोध उत्पन्न करते हैं।

आक्टा के आजीवन सदस्यता के स्वरुप पर काफी देर तक बहस के बाद निर्णय लिया गया कि सेवानिवृति के बाद संगठन आजीवन सदस्य सम्मानित सदस्य रहेंगे लेकिन आक्टा पदाधिकारियों के चुनाव में उन्हें वोट देने का अधिकार नहीं होगा।

नयी कार्यकारिणी के गठन के बाद हुई इस प्रथम सामान्य बैठक में महाविद्यालयों में स्नातकोत्तर कक्षाएं शुरू करने, 107 शिक्षकों की पदोन्नति की प्रक्रिया पूरी करने, प्राचार्यो और शिक्षकों के चयन की प्रक्रिया शुरू करने सहित संगठक महाविद्यालयों और उनके शिक्षकों के विकास के लिए उठाये गए अन्य कदमों के लिए सभी सदस्यों ने कुलपति का आभार ज्ञापित किया। अध्यक्षता डा. सुनीलकांत मिश्र ने की।

संचालन महासचिव डॉ उमेश प्रताप सिंह तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ राजेश कुमार गर्ग ने किया।

कालेजों के शिक्षकों को समय से वेतन देने की मांग Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।