बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 11, 2016

इलाहबाद:सीमैट में सुधारेंगे कस्तूरबा विद्यालय के शिक्षकों की भाषा


इलाहाबाद
हिन्दी विषय के टीचरों की कार्यशाला का उद्घाटन
राज्य के शैक्षिक दृष्टि से पिछड़े विकास खंडों में स्थापित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों के हिन्दी विषय के शिक्षक/शिक्षिकाओं के चार दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रमों के पहले चक्र का उद्घाटन गुरुवार को राज्य शैक्षिक प्रबंधन एवं प्रशिक्षण संस्थान (सीमैट) एलनगंज में हुआ।

प्रशिक्षण का उद्देश्य टीचरों को उच्च प्राथमिक स्तरीय भाषाई क्षमताओं व कौशल का विकास करना है। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम 16 दिसंबर तक 9 चक्रों (18 चरणों) में पूरा किया जाएगा। पहले चक्र में प्रदेश के 8 जनपदों इलाहाबाद, प्रतापगढ़, जौनपुर, मिर्जापुर, कौशांबी, भदोही, फतेहपुर एवं गौतमबुद्घनगर के स्कूलों की कुल 86 टीचर भाग ले रही हैं।

मास्टर ट्रेनर के रूप में रघुनाथ पांडेय, यादवेन्द्र कुमार पांडेय, डॉ. शैल सिंह एवं भूपेन्द्र कौर उपस्थित रहीं। उद्घाटन भाषण में सर्व शिक्षा अभियान राज्य परियोजना कार्यालय की विशेषज्ञ सबा सिद्दीकी ने कहा कि प्रशिक्षण के बाद प्रतिभागी हिन्दी को अधिक सरलता से समझा पाने में सफल होंगे।

यूनीसेफ की सलाहकार सरिता सिंह ने कहा कि हिन्दी विषय की सही समझ बच्चों में विकसित करना आवश्यक है, इस उद्देश्य को प्राप्त करने में यह प्रशिक्षण महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। सीमैट के डॉ. अमित खन्ना ने भी विचार व्यक्त किया। संचालन संकाय सदस्य प्रभात कुमार मिश्रा ने किया।

‘चित्रात्मक और आकर्षक हों बच्चों की पाठ्यपुस्तकें
इलाहाबाद। एनसीईआरटी नई दिल्ली के भाषा विभाग के अध्यक्ष व संस्कृत के विशेषज्ञ प्रो. केसी त्रिपाठी ने कहा कि वर्तमान तकनीकी युग में हमारे बच्चे पहले की तुलना में और हमारी अपेक्षाओं से अधिक तेज हैं।

इसलिए पाठ्यपुस्तकों की विषयसामग्री का चयन व प्रस्तुतिकरण में यह ध्यान रखना होगा कि पाठ्यसामग्री आकर्षक, आनन्दप्रद व बच्चों को समझाने-सीखाने योग्य हो।

प्रो. त्रिपाठी राज्य शिक्षा संस्थान एलनगंज में चल रही कक्षा एक से तीन तक की किताबों की समीक्षा कार्यशाला में गुरुवार को बोल रहे थे।

प्राचार्य दिब्यकान्त शुक्ल ने कहा कि प्रदेश में कक्षा तीन से संस्कृत का पठन-पाठन होता है। इसलिए शुरुआती स्तर पर संस्कृत पाठ्यपुस्तक की सामग्री के चयन में विशेष ध्यान रखना होगा कि बच्चे सरलता के साथ संस्कृत भाषा को सीख सकें।

इलाहबाद:सीमैट में सुधारेंगे कस्तूरबा विद्यालय के शिक्षकों की भाषा Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।