बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 09, 2016

72,825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती एक दर्जन जिलों में भर्ती संतोषजनक नहीं    


लखनऊ
72825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती भले ही लगभग दो सालों से चल रही हो लेकिन अब भी यह पूरी नहीं हो पाई है। एक दर्जन से ज्यादा जिलों में 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती की प्रगति खराब है। आला अधिकारियों ने इस पर नाराजगी जताई है।

बीते दिनों हुई एक बैठक में सामने आया कि लगभग एक दर्जन जिले ऐसे हैं जहां अब भी भर्ती पूरी नहीं हो पाई है। इनमें सीतापुर व लखीमपुर खीरी जैसे जिले भी शामिल हैं जहां 6 हजार से ज्यादा रिक्तियां थीं।

वहीं हरदोई, बलरामपुर, शाहजहांपुर, सुलतानपुर, गोण्डा, सोनभद्र, बहराइच, श्रावस्ती समेत कई जिलों में भर्ती की गति धीमी है। ऐसा तब है जब इस भर्ती की निगरानी सुप्रीम कोर्ट कर रहा है।

अब शासन ने निर्देश दिए हैं कि इन्हें जल्द पूरा किया जाए। इस भर्ती की सुनवाई नवम्बर के दूसरे पखवाड़े में सुप्रीम कोर्ट में होनी है।

हालांकि ज्यादातर जिलों में आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थी न मिलने के कारण सीटें नहीं भर पाई हैं। वहीं कई जिलों में ऐसा भी हुआ जहां अभ्यर्थियों ने चयनित होने के बाद भी सीट छोड़ दी क्योंकि इस दौरान चल रही अन्य शिक्षक भर्तियों में उनका चयन किसी मनचाहे जिले में हो गया था।

बहराइच, श्रावस्ती, सोनभद्र कुछ ऐसे ही जिले हैं जहां अभ्यर्थियों ने चयनित होने के बाद भी कार्यभार ग्रहण नहीं किया।

इस भर्ती के लिए 2011 में आवेदन लिए गए थे लेकिन भर्ती की प्रक्रिया 2013 दिसम्बर में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद शुरू हुई। अब सुप्रीम कोर्ट इस पर लगातार नजर रखे हुए है।

72,825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती एक दर्जन जिलों में भर्ती संतोषजनक नहीं     Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।