बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 09, 2016

कालाधन के खिलाफ मोदी सरकार का मास्टर स्ट्रोक, बंद हुए 500 और 1000 के नोट


नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपये के नोटों का चलन बंद करने की अचानक घोषणा कर कालाधन, भ्रष्टाचार, आतंकवाद और जाली नोट पर नकेल कसने का जबर्दस्त मास्टर स्ट्रोक लगाया है।

मंगलवार को राष्ट्र को संबोधित करते हुए उन्होंने 500 और 100 रुपये के नोट रखने वालों को 50 दिन की मोहलत दी है। कालेधन और भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए इसे मोदी सरकार का अब तक का सबसे बड़ा आर्थिक सुधार माना जा रहा है।

प्रधानमंत्री का पद संभालने के ढाई साल बाद पहली बार टेलीविजन पर राष्ट्र के नाम संबोधन में मोदी ने कहा कि जल्द ही 500 और 2000 रुपये के नए नोट जारी किए जाएंगे।

बैंक और डाकघर के खाताधारक 10 नवंबर से 30 दिसंबर तक अपने खातों में पुराने नोट बिना किसी सीमा तक जमा करा सकते हैं। उन्होंने कहा कि 2000 और 500 रुपये के नए नोटों का स्वरूप भी बिल्कुल बदला होगा। ये नोट बैंकों में पहुंच चुके हैं और संभवत: 10 नवंबर से चलन में आ जाएंगे।

मोदी ने कहा, ‘अतीत के अनुभवों के आधार पर भारतीय रिजर्व बैंक बड़े नोटों का चलन सीमित रखने का प्रावधान करेगा। अफरातफ री न मचे, इसलिए 9 नवंबर को बैंक और एटीएम बंद रहेंगे।

भीड़ के दबाव से बचने के लिए कुछ जगहों पर 10 नवंबर को भी एटीएम काम नहीं करेंगे। चेक, डिमांड ड्राफ्ट, डेबिट या क्रेडिट कार्ड और इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर के जरिये लेनदेन की कोई सीमा नहीं रहेगी।

शुरुआती कुछ दिनों तक एटीएम से प्रतिदिन निकासी की सीमा 2000 रुपये रखी गई है जिसे बाद में बढ़ाकर 4,000 रुपये कर दिया जाएगा। बाजार में नए नोटों की सप्लाई को ध्यान में रखते हुए प्रतिदिन बैंकों से निकासी सीमा 10,000 रुपये और प्रति सप्ताह 20,000 रुपये तय की गई है। बाद में यह सीमा बढ़ा दी जाएगी।’

सरकार ने फैसला किया है कि 24 नवंबर तक पहचान पत्र (मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड, पैन आदि) दिखाकर बैंक काउंटरों तथा चुनिंदा डाकघरों पर प्रतिदिन 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट 4000 रुपये की सीमा तक बदले जा सकते हैं।

बैंकों के अतिरिक्त काउंटर खोले जाएंगे और अतिरिक्त घंटों तक काम किया जाएगा। 25 नवंबर से यह सीमा बढ़ा दी जाएगी।

जो लोग किसी कारणवश 30 दिसंबर 2016 तक भी 500 और 1000 के नोट जमा नहीं करा पाते हैं, उनके लिए आरबीआई ने 31 मार्च 2017 तक की तारीख तय की है और इसके लिए उन्हें घोषणापत्र के साथ ये नोट जमा करने की सुविधा रहेगी।

अधिकारियों का कहना है कि फिलहाल बाजार में 1000 के नोट वाले 6.7 अरब रुपये हैं जबकि 500 के नोट वाले 16.5 अरब रुपये। पीएम मोदी ने स्वीकार किया कि इस महत्वपूर्ण फैसले से लोगों को थोड़ी असुविधा जरूर होगी लेकिन भ्रष्टाचार मिटाने के लिए उन्हें कुछ दिनों तक यह सहन करना होगा।

उन्होंने राजनीतिक दलों, सभी सरकारों, सामाजिक संगठनों और मीडिया से कालेधन के खिलाफ इस युद्ध में पूरे उत्साह से साथ देने और इसे सफल बनाने की अपील की। पीएम ने लोगों को भरोसा दिलाते हुए कहा, आपका पैसा आप ही का रहेगा। आपका कुछ नहीं खोएगा। सरकार आपको इस बात का भरोसा दिलाती है।

*अफरातफरी से बचने के लिए आज बंद रहेंगे बैंक*

पीएम ने कहा कि बैंकों में 500 और 1000 रुपये के नोट जमा करने के अलावा लोग बैंकों और डाकघरों से पैन, आधार और मतदान पहचान पत्र, पासपोर्ट आदि मान्य पहचान पत्र दिखा कर नोट बदल भी सकते हैं।

उन्होंने एलान किया कि जरूरतमंदों को लिए कुछ जरूरी कदम भी उठाए हैं। उन्होने कहा है कि इलाज और दवा के लिए भुगतान और अन्य जरूरी सेवाओं को फिलहाल इस फैसले से अलग रखा गया है।

फिलहाल 72 घंटों के लिए यानी 11 नवंबर की आधी रात तक अस्पताल, पेट्रोल पंपों, रेलवे रिजर्वेशन काउंटरों, हवाईअड्डों, श्मशान घाटों, कब्रिस्तानों और अन्य जरूरी सेवाओं के लिए 500 और 1000 के नोट मान्य होंगे।

आएंगे 2000 और 500 के नए नोट
इस दौरान प्रधानमंत्री ने 2000 और 500 रुपये के नए नोट बाजार में उतारने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि सरकार ने आरबीआई के इस आशय के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। खुद पीएम मोदी ने इसे ऐतिहासिक फैसला बताते हुए लोगों का सहयोग मांगा।

मौका देने के बाद उठाया सख्त कदम
काला धन से निपटने के लिए मोदी सरकार ने कई कदम उठाए। इसके खिलाफ कानून बनाने के बाद 10 सितंबर तक स्वत: कालाधन घोषित करने की सुविधा दी थी। इस मद में महज सवा लाख करोड़ रुपये का कालाधन ही सामने आया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने 500 और 1000 के नोट बंद करने की घोषणा कर खलबली मचा दी।

बैंकों, डाकघरों में जमा कराएं पांच सौ, हजार के नोट

8 नवंबर की मध्य रात्रि से अगले 72 घंटे तक 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट यहां चलेंगे
पेट्रोल पंप, सरकारी कंपनियों के गैस स्टेशनों पर
सरकारी अस्पतालों में इलाज के भुगतान के लिए
रेलवे टिकट बुकिंग काउंटरों पर, सरकारी बसों के टिकट काउंटरों पर, एयरपोर्ट पर एयरलाइंस के टिकट काउंटरों पर
केंद्र और राज्य सरकार की ओर से अधिकृत कंज्यूमर को-ऑपरेटिव स्टोरों में
राज्य सरकारों की ओर से अधिकृत मिल्क बूथ पर
श्मशान घाट और कब्रिस्तानों में
बैंकों, डाकघरों में जमा कराएं पांच सौ, हजार के नोट
8 नवंबर 2016 की मध्य रात्रि से 1000 और 500 रुपये के करेंसी नोट रद्दी हो जाएंगे।

आप 1000 और 500 के नोट 10 नवंबर से 30 दिसंबर 2016 तक अपने बैंकों या डाकघरों या उप डाकघर में जमा करा सकते हैं।

जो लोग किसी कारणवश 1000 और 500 के नोट 30 दिसंबर तक जमा कराने में असमर्थ रहते हैं वे अपना पहचान पत्र (आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, पैन कार्ड आदि) दिखाते हुए इन नोटों को 31 मार्च 2017 तक जमा करा सकते हैं।

500 और 1000 के नोट बदलने की सीमा 4000 रुपये तक और समय सीमा 24 नवंबर तक ही। रहेगी।
सभी बैंक 9 नवंबर को बंद रहेंगे, कुछ जगहों पर 9 नवंबर को और कुछ जगह 10 नवंबर को एटीएम बंद रहेंगे।

प्रतिदिन आप बैंकों से 10 हजार रुपये तक जबकि प्रति सप्ताह 20 हजार रुपये तक निकाल सकते हैं। आने वाले दिनों में यह सीमा बढ़ाई जाएगी।

500 और 2000 रुपये के नए नोट जारी किए जाएंगे।

चेक, डिमांड ड्राफ्ट, डेबिट या क्रेडिट कार्ड और इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर के जरिये लेनदेन की कोई सीमा नहीं रहेगी

कालाधन के खिलाफ मोदी सरकार का मास्टर स्ट्रोक, बंद हुए 500 और 1000 के नोट Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।