बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

अक्तूबर 19, 2016

*अधूरा कोर्स, खुले प्रश्नपत्र और परीक्षा बनी मजाक*

रायबरेली
परिषदीय विद्यालय में मंगलवार से शुरू हुई परीक्षा महज खानापूरी तक सिमट कर रह गई। पहले दिन ही सभी दावों की पोल खुलती नजर आई। ज्यादातर विद्यालयों में अव्यवस्थाओं का बोलबाला रहा।

बच्चे झुंड बनाकर नकल करते मिले। उन्हें रोकने के बजाए शिक्षक, शिक्षकाएं मोबाइल में व्यस्त रहे। डीह ब्लॉक क्षेत्र के विद्यालयों में बिना सील पैक ही प्रश्नपत्र भेज दिए गए। अपनी फजीहत न हो, इसके लिए शिक्षक छात्रों को प्रश्नपत्र तक हल करवाने में लगे रहे।

यही नहीं जगतपुर ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय मनोहरगंज, रघुराजगंज, पूरे फूल में कॉपियां ही नहीं पहुंची। शिक्षकों को स्वयं ही कॉपियां खरीदनी पड़ी। पूर्व माध्यमिक विद्यालय चकअहमदपुर में बच्चे परीक्षा देते तो मिले, लेकिन उनके डेस्क के नीचे ही स्कूल बैग भी रखा रहा। यह पारदर्शिता पूरी शिक्षा व्यवस्था को मुंह चिढ़ा रही है।

शासन की ओर से भले ही परीक्षा को लेकर दिशा निर्देश जारी कर दिया गया हो, लेकिन हकीकत में ज्यादातर स्थानों पर मनमानी ही नजर आई। कहीं किताब नहीं, तो कहीं पर कोर्स अधूरा, ऐसे में प्रश्न पत्र किस आधार पर तैयार कर दिया गया, इसको लेकर कोई भी कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

इसका खामियाजा छात्रों को भुगतना पड़ा। प्रश्नपत्र तो मिला, लेकिन लिखना क्या है, सब एक-दूसरे से पूछते रहे। बीएसए जीएस निरंजन का कहना है कि शासन की मंशानुरूप अर्ध वार्षिक परीक्षा शुरू करा दी गई है। सभी विद्यालयों में प्रश्नपत्र भेज दिये गये है।

नकलविहीन परीक्षा कराने के लिए बीईओ को निर्देश दिया गया है। यदि इसके बाद कहीं पर अव्यवस्था है, तो कार्रवाई की जाएगी। किसी भी कीमत पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी

*अधूरा कोर्स, खुले प्रश्नपत्र और परीक्षा बनी मजाक* Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।