बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

अक्तूबर 24, 2016

शिक्षकों ने कैंडल जुलूस निकाल मांगा पुरानी पेंशन

इलाहाबाद : पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू न किए जाने से शिक्षक खफा हैं। इसी के मद्देनजर रविवार को अटेवा पेंशन बचाओ मंच के बैनर तले शिक्षकों ने बालसन चौराहा से कैंडल जुलूस निकाला।

बालसन चौराहे से आजाद पार्क तक निकाले गए कैंडल जुलूस में शिक्षकों की भीड़ उमड़ पड़ी। शिक्षकों ने केंद्र व राज्य सरकार से पुरानी पेंशन बहाल करने की गुहार लगाई।

आजाद पार्क में हुई सभा को संबोधित करते हुए अटेवा पेंशन बचाओ मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष डा. हरि प्रकाश यादव ने कहा कि सरकार शिक्षकों के भविष्य से खिलवाड़ कर रही है। पुरानी पेंशन बहाल नहीं होने से शिक्षक भविष्य को लेकर सशंकित हैं।

अधिकारों की प्राप्ति के लिए शिक्षक किसी भी हद तक जाने के मूड में आ चुके हैं। कहा कि सन 2005 के बाद नियुक्त शिक्षक व शिक्षणेत्तर कर्मचारी पुरानी पेंशन योजना से आच्छादित नहीं हो रहे हैं।

इस वजह से शिक्षकों में आक्रोश व्याप्त हो रहा है। शिक्षक अंबरीश गिरि ने कहा कि शिक्षकों को अपने अधिकारों को प्राप्त करने के लिए हर स्तर पर संघर्ष करने की जरुरत है।

जब तक हम पुरानी पेंशन की बहाली की मांग को लेकर आंदोलन नहीं करेंगे सरकार हमारा हक नहीं देने वाली है। शिक्षकों को अपनी ताकत का एहसास विधान सभा के सामने प्रदर्शन करके दिखाना होगा।

कैंडल जुलूस में उपेंद्र वर्मा, सुरेश यादव, सुधीर गुप्ता, चंद्रशेखर सिंह, नीलू गौतम, राकेश यादव, अशोक कनौजिया, अजय विश्वकर्मा, अरुण कुमार, लालमणि पांडेय, राम शिरोमणि पांडेय, रामसेवक त्रिपाठी, राजेश सिंह, सुरेश पासी, जगतपाल, लवकुश राय आदि मौजूद रह।

शिक्षकों ने कैंडल जुलूस निकाल मांगा पुरानी पेंशन Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।