बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 18, 2016

अपने जवाब से मुकर रहा है चयन बोर्ड

इलाहाबाद : माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड की स्नातक शिक्षक यानी टीजीटी 2013 शारीरिक शिक्षा की लिखित परीक्षा में गलत जवाबों का प्रकरण थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। चयन बोर्ड उन प्रश्नों को लेकर घिर गया है जिनका जवाब पहले कुछ बताया गया था व अब उससे इतर बताया जा रहा है।

अभ्यर्थियों का कहना है कि भले ही उनका व साथियों का चयन हो या न हो, लेकिन कम से कम प्रश्नों के जवाब तो सही होने ही चाहिए। अभ्यर्थी परीक्षा परिणाम में संशोधन करने की मांग कर रहे हैं। टीजीटी शारीरिक शिक्षा की परीक्षा 25 जनवरी 2015 को हुई उसका परिणाम इसी माह जारी हुआ है।

रिजल्ट आने के बाद से गलत जवाब को लेकर हंगामा मचा है। पहले फिजिकल एजूकेशन की ‘बी’ सीरीज के गलत जवाब को लेकर तमाम आपत्तियां चयन बोर्ड पहुंची, लेकिन अब ‘डी’ सीरीज में भी दर्जनों ऐसे सवाल पूछे गए जिनके जवाब गलत बताए जा रहे हैं।

कहा जा रहा है कि इससे परीक्षा परिणाम पूरी तरह से संदिग्ध हो गया है, क्योंकि गलत जवाब देने वाले ही चयनित हो गए हैं। युवाओं ने प्रश्न संख्या 4, 5, 13, 17, 18, 21, 26, 59, 69, 111, 117 के जवाब को गलत बताया है और उस संबंध में अनेकों साक्ष्य भी दिए हैं।

खास बात यह है कि चयन बोर्ड ने इन प्रश्नों में से कई सवाल पिछले वर्षो की परीक्षा में पूछे थे और उनके जवाब पहले कुछ दिए और अब दूसरे जवाब को सही बताया गया है। युवाओं ने चयन बोर्ड अध्यक्ष को साक्ष्य के साथ आपत्तियां दी है और उनका दोबारा मूल्यांकन कराने का अनुरोध किया है।

युवाओं का कहना है कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के विषय विशेषज्ञ सवालों की विश्वसनीयता परखे। यदि अनदेखी हुई तो यह प्रकरण हाईकोर्ट तक जाएगा। वहीं चयन बोर्ड अध्यक्ष ने जल्द ही इसका निस्तारण करने का वादा किया है

अपने जवाब से मुकर रहा है चयन बोर्ड Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।