बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 05, 2016

बच्चों के सामने क्लास में हेडमास्टर ने शिक्षिका को बुरी तरह पीटा

सुल्तानपुर
अब तक स्कूल में बच्चों की पिटाई के मामले सुनते और देखते रहे होंगे लेकिन कादीपुर कोतवाली क्षेत्र के मालापुर प्राइमरी स्कूल में हेडमास्टर के शिक्षिका को लाठी-डंडे से पीटने का सनसनीखेज मामला सामने आया है।

शिक्षिका अपने पति के साथ जैसे ही स्कूल पहुंची, हेडमास्टर अपने बहन और बहनोई के साथ उस पर हमला बोल दिया। मारपीट से बच्चे सहम गए और दूसरे कक्ष में जाकर दुबक गए। पीड़ित शिक्षिका ने हेडमास्टर पर बदनीयती का आरोप लगाया है।

मालापुर प्राथमिक विद्यालय में दयाशंकर मौर्य हेडमास्टर हैं। यहीं पर उनकी बहन सुमित्रा मौर्य सहायक अध्यापक हैं। स्कूल की सहायक अध्यापक शनिवार सुबह पौने आठ बजे पति के साथ विद्यालय पहुंची तो हेडमास्टर दयाशंकर मौर्य, सहायक अध्यापिका सुमित्रा और उसका पति उमेश शिक्षिका पर टूट पड़े।

*पति को भी लाठी-डंडे से पीटा*

शिक्षिका की चीख-पुकार सुनकर विद्यालय के बाहर बाइक लेकर खड़ा पति अंदर पहुंचा और पत्नी को बचाने लगा। इस बीच हेडमास्टर, सुमित्रा व उमेश ने उसको भी लाठी-डंडे से पीटा। मारपीट में शिक्षिका और उसके पति को चोटें आईं हैं।

पीड़ित शिक्षिका ने मामले की सूचना एबीएसए सुधीर कुमार सिंह को देने के साथ कोतवाली में आरोपियों के खिलाफ मारपीट की तहरीर दी है। एबीएसए सुधीर कुमार सिंह ने सभी के बयान दर्ज किए हैं।

उन्होंने बताया कि पीड़ित शिक्षिका ने हेडमास्टर पर बदनीयती व हमला करने का आरोप लगाया है।

हेडमास्टर दयाशंकर मौर्य ने कहा कि छेड़खानी का आरोप निराधार है। उधर, प्रभारी कोतवाल अनिल कुमार सोनकर ने बताया कि दोनों पक्षों ने तहरीर दी है। जांच की जा रही है

बच्चों के सामने क्लास में हेडमास्टर ने शिक्षिका को बुरी तरह पीटा Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।