बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 19, 2016

यूपी में अब सिर्फ छुट्टियों में लगेगी शिक्षकों की बीएलओ ड्यूटी    

लाहाबाद
यूपी में शिक्षकों की बीएलओ ड्यूटी सिर्फ छुट्टियों या स्कूल टाइमिंग के बाद ही लगेगी। उत्तर प्रदेश के उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी रत्नेश सिंह ने सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को सात सितंबर को भेजे पत्र में बूथ लेवल अधिकारियों की नियुक्ति के संबंध में दिशा-निर्देश दिए हैं।

भारत निर्वाचन आयोग की ओर से पांच सितंबर को मिले दिशा-निर्देश का हवाला देते हुए शिक्षकों की बीएलओ ड्यूटी सामान्य तौर पर छुट्टियों और गैर शैक्षणिक दिवसों पर ही लगाने को कहा है।

हालांकि शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के लिए ऐसा कोई प्रतिबंध नहीं है। यानि शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की ड्यूटी आवश्यकता पड़ने पर स्कूल टाइमिंग में लगाई जा सकती है।

जिले में कई शिक्षक कर रहे बीएलओ ड्यूटी
इलाहाबाद। निर्वाचन आयोग के आदेश के बावजूद जिले में कई शिक्षकों की ड्यूटी बीएलओ के रूप में लगाई गई है। मतदाता सूची पुनरीक्षण के लिए अधिकांश शिक्षकों की ड्यूटी पदाविहित अधिकारी के रूप में लगाई गई है।

पदाविहित अधिकारी अवकाश के दिन काम करते हैं। इन शिक्षकों की शिकायत है कि छुट्टी के दिन जो काम लिया जाता है उसका न तो पैसा मिलता है और न ही अवकाश समायोजित होता है।

इनका कहना है
स्कूल के समय शिक्षकों की बीएलओ ड्यूटी नहीं लगाने की लंबे समय से मांग कर रहे थे। उम्मीद है निर्वाचन आयोग के निर्देश के बाद शिक्षकों को इससे राहत मिलेगी। जो टीचर पदाविहित अधिकारी के रूप में काम कर रहे हैं, उन्हें प्रतिकर अवकाश दिया जाए।
ब्रजेन्द्र सिंह, मंडलीय उपाध्यक्ष जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ

यूपी में अब सिर्फ छुट्टियों में लगेगी शिक्षकों की बीएलओ ड्यूटी     Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।