बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 05, 2016

एनएचएम संविदा कर्मचारियों ने मांगी पक्की नौकरी

लखनऊ।
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत तैनात संविदा कर्मचारियों ने पक्की नौकरी की मांग की है। संविदा कर्मचारियों का कहना है कि मामूली सी बात पर कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है।

इससे कर्मचारियों में निराशा का भाव घर कर रहा है। उन्होंने नियमित पदों पर होने वाली भर्तियों में संविदा कर्मचारियों को समायोजित करने की गुहार लगाई है।

ये जानकारी उप्र राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ के अध्यक्ष मयंक प्रताप सिंह ने रविवार को पत्रकारवार्ता में दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए संविदा कर्मचारी 2005 से जुटे हैं।

लगभग पौने दो लाख संविदा कर्मचारियों पर स्वास्थ्य सेवाओं की जिम्मेदारी है। बावजूद इसके संविदा कर्मचारियों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। अफसर जब चाहते हैं कर्मचारियों को नौकरी से हटा देते हैं। उन्होंने कहा कि विभिन्न संवर्गों में नियमित पदों पर कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया चल रही है।

इनमें संविदा कर्मचारियों को वरीयता दी जानी चाहिए। समायोजन की प्रक्रिया भी धीरे-धीरे शुरू की जानी चाहिए। वरिष्ठ उपाध्यक्ष आजाद सिंह ने कहा कि आशा को किसी भी तरह का वेतन नहीं मिल रहा है। इन्हें न्यूनतम मानदेय तो मिलना ही चाहिए ताकि जीवन चल सके।

नियमित पदों पर हो समायोजन
आजाद सिंह के मुताबिक लैब टेक्नीशियन, एक्सरे टेक्नीशियन, एएनएम, जीएनएम, स्टाफ नर्स, मदर एंड चाइल्ड ट्रेकिंग सिस्टम के तहत संविदा कर्मचारियों की भर्ती हुई है।

नियमित पद निकलने पर एक्सरे टेक्नीशियन को निकाल दिया गया। जबकि अनुभवी टेक्नीशियन को नियमित पदों पर समायोजित किया जाना चाहिए। इस संबंध में परिवार कल्याण राज्यमंत्री रविदास मेहरोत्रा से मुलाकात कर ज्ञापन भी सौंपा जा चुका है। बावजूद इसके समस्या जस की तस  है।

एनएचएम संविदा कर्मचारियों ने मांगी पक्की नौकरी Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।