बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 12, 2016

अब पढ़ेंगी और आगे बढ़ेंगी बेटियां

ओमप्रकाश तिवारी, मुंबई 1अपनी प}ी का शव 12 किलोमीटर तक कंधे पर ढोने वाले दाना मांझी की तीन बेटियां अब पढ़-लिख कर अपना भविष्य संवार सकेंगी। चंद दिनों पहले ही कंधे पर पीठ का शव लादे ओडिशा के दाना मांझी की तस्वीरें मीडिया में चर्चित हुई थीं।

भुवनेश्वर स्थित कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (किस) ने दाना मांझी की तीन बेटियों चांदनी (13), सोनी (07) एवं प्रमिला (04) को निशुल्क शिक्षा देने का निर्णय लिया है। मांझी की चार बेटियां हैं। सबसे बड़ी बेटी का विवाह हो चुका है।

कलिंगा इंस्टीट्यूट के आवासीय संस्थान में 25,000 आदिवासी छात्र-छात्रओं को कक्षा एक से स्नातकोत्तर तक निशुल्क शिक्षा दी जाती है। दाना मांझी के बहाने गरीबी के लिए चर्चित ओडिशा के कालाहांडी जिले की किस्मत भी खुलती नजर आ रही है।

कलिंगा इंस्टीट्यूट के संस्थापक डॉ. अच्युत सामंत ने दाना मांझी के गांव मेलघर व उसके आसपास के 100 और आदिवासी बच्चों को संस्था में प्रवेश देने तथा कालाहांडी में किस की एक शाखा शुरू करने का सैद्धांतिक निर्णय कर लिया है।

किस से जुड़े सूत्रों के अनुसार कालाहांडी जिले के विधायक कैप्टन दिब्यशंकर मिश्र के नेतृत्व में वहां के कई आदिवासी संगठनों ने डॉ. अच्युत सामंत से मिलकर दाना मांझी सहित कुछ और आदिवासी बच्चों को निशुल्क शिक्षा के लिए किस में प्रवेश देने की मांग की थी।

जिसे स्वीकार करते हुए सामंत ने मांझी की तीनों बेटियों सहित 100 अन्य आदिवासी बच्चों को किस में प्रवेश देने का निर्णय लिया। किस आदिवासी बच्चों को निशुल्क शिक्षा देनेवाला दुनिया के सबसे बड़े संस्थान के रूप में जाना जाता है।

इस संस्थान में आदिवासी बच्चों को मिल रही शिक्षा नक्सलवाद की समस्या कम करने में भी सहायक रही है।1बहरीन सरकार से नौ लाख की मदद1किस की ही पहल पर दाना मांझी की बेटियों को बहरीन सरकार भी आर्थिक मदद देने के लिए आगे आई है।

डॉ. सामंत ने आदिवासी संगठनों के प्रतिनिधिमंडल को बताया कि बहरीन सरकार की ओर से दाना मांझी को कुल नौ लाख रुपये की सहायता राशि प्रदान की जाएगी। यह राशि मांझी की बेटियों के नाम फिक्स डिपॉजिट में जमा की जाएगी।

अब पढ़ेंगी और आगे बढ़ेंगी बेटियां Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।