बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 21, 2016

जिम्मेदारी में लापरवाही: हेडमास्टर समेत पांच के वेतन पर बीएसए ने लगाई रोक

बलिया। मध्यान्ह भोजन में मिलावट की बात सामने आने पर बीएसए डॉ. राकेश सिंह ने एक स्कूल के प्रधानाध्यापक समेत पांच शिक्षकों के वेतन पर अग्रिम आदेश तक रोक लगा दिया।

इसके अलावा गुणवत्तायुक्त शैक्षणिक माहौल न मिलने तथा नामांकित 101 में महज 12 बच्चों की उपस्थिति पर भड़के बीएसए ने प्रधानाध्यापिका को फटकार लगाते हुए सभी शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया।

शिक्षा क्षेत्र रसड़ा के प्राथमिक विद्यालय अखनपुरा पर सोमवार को जो मध्यान्ह भोजन बना था, उसमें कुछ मिलावट होने की शिकायत एक छात्र ने प्रधानाध्यापिका से किया।

हालात की नजाकत को देखते हुए बच्चों में वह भोजन वितरित नहीं किया गया। मंगलवार की सुबह भारी संख्या में स्कूल पहुंचे ग्रामीणों ने जांच की मांग शुरू कर दिया।

प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए जिलाधिकारी गोविन्द राजू एनएस के निर्देश पर पहुंचे बीएसए डॉ राकेश सिंह, बीईओ राकेश सिंह व डीसी एमडीएम अजीत पाठक मौके पर पहुंचे।

बीएसए ने स्कूल पर बने एमडीएम व कच्ची सामग्री की शैम्पलिंग करायी, ताकि उसे जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा जा सकें।

वहीं,एमडीएम में ब्रांडेड सामग्री का प्रयोग न करने पर प्रधानाध्यापिका को खूब डांट मिली। बीएसए ने बताया कि उक्त विद्यालय का शैक्षिक माहौल ठीक नहीं मिला। छात्र उपस्थिति भी माकूल नहीं मिली।

इस तरह प्रथम दृष्टया जांच में जिम्मेदारी का निर्वहन सही तरीके से न करने की बात सामने आयी, जिस पर प्रधानाध्यापिका विन्दु यादव, सहायक अध्यापक उमेश सिंह, सुनील कुमार, पूनम यादव व सरिता देवी का वेतन अग्रिम आदेश तक रोक दिया गया है।

जिम्मेदारी में लापरवाही: हेडमास्टर समेत पांच के वेतन पर बीएसए ने लगाई रोक Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।