बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

सितंबर 12, 2016

ईपीएफ पर ब्याज दर घटाने की तैयारी में सरकार

दिल्ली,भविष्य निधि (पीएफ) खाताधारकों को इस वित्तीय वर्ष में सरकार की ओर से झटका लगना तय हो गया है। दरअसल वित्त मंत्रालय और श्रम मंत्रालय ने इस वित्तीय वर्ष में बीते वित्तीय वर्ष के मुकाबले पीएम खातों में जमा रकम पर ब्याज दर में कमी करने पर सहमति बन गई है।

बीते साल दिए गए 8.8 फीसदी की जगह इस बार महज 8.6 फीसदी ही ब्याज दिए जाने की तैयारी है। इस आशय की आधिकारिक घोषणा जल्द कर दी जाएगी।

बीते वित्तीय वर्ष के लिए श्रम मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय के 8.7 फीसदी ब्याज दर तय करने की सलाह ठुकराते हुए 8.8 फीसदी ब्याज दर सुनिश्चित की थी। मगर इस बार ब्याज दर पर दोनों मंत्रालयों में सहमति बन चुकी है।

दरअसल पीएफ पर ब्याज दर का निर्धारण ईपीएफओ द्वारा वर्तमान वित्तीय वर्ष में होने वाली आय के अनुमान तय किए जाने के बाद होता है। अनुमान सामने आने के बाद पीएफ का सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टी ब्याज दर निर्धारित करता है।

पीएफ खाताधारकों की संख्या करीब 4 करोड़
हालांकि ईएफपीओ ने अब तक कोई अनुमान नहीं लगाया है, जबकि श्रम और वित्त मंत्रालय में ब्याज दर पर सहमति बन गई है।

श्रम मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय के इस सुझाव को भी मान लिया हैकि ब्याज दर उतनी ही तय की जाए, जिसका भुगतान करने में खुद ईपीएफओ अपने संसाधनों से करने में सक्षम हो।

गौरतलब है कि देश भर में पीएफ खाताधारकों की संख्या करीब 4 करोड़ है। हालांकि ब्याज दर में कटौती की घोषणा के बाद कर्मचारी संगठन एक बार फिर से नाराज हो सकते हैं।

बीते दिनों कर्मचारी और मजदूर संगठनों अपने हितों से जुड़े कई मसलों पर राष्ट्रीय स्तर पर बंद का आह्वान किया था। हालांकि अंत समय में संघ समर्थक संगठनों की बंद से दूरी दिखाने के कारण इसका व्यापक असर नहीं पड़ा था।
  

ईपीएफ पर ब्याज दर घटाने की तैयारी में सरकार Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।