बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

अगस्त 10, 2016

आठवीं के छात्र ने पीएम को खत लिखकर पूछा, स्कूल जरूरी है या सभा

खंडवा (नई दुनिया ब्यूरो)। मध्य प्रदेश के खंडवा में आठवीं कक्षा के एक छात्र देवांश जैन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मार्मिक पत्र लिखा। उसने भाबरा में हुई पीएम की सभा के लिए स्कूल बसों के इस्तेमाल करने की प्रशासनिक योजना पर सवाल उठाए।

अपने मन की बात में पीएम को पत्र लिखकर पूछा कि आपकी सभा क्या हमारे स्कूल से अधिक जरू री है और क्या आपको सुनने आने वाले लोगों को ढोने के लिए प्रशासन द्वारा स्कूल बसों का लेना सही है। विद्याकुंज स्कूल के छात्र देवांश ने मोदी अंकल से पत्र की शुरुआत की।

छात्र को ऐसी जानकारी थी कि पीएम की सभा में कार्यकर्ताओं को ले जाने के लिए स्कूल बसों का इस्तेमाल किया जाएगा। इससे उसे लेने स्कूल बस नहीं आएगी। हालांकि, बाद में जिला प्रशासन ने बसों को लेने का आदेश निरस्त कर दिया। यही नहीं खंडवा में विश्व आदिवासी दिवस पर स्कूलों में घोषित अवकाश को भी रद्द कर दिया गया।

मोदी अंकल, मेरी स्कूल बस छोड़ दो प्लीज पत्र में छात्र ने पीएम से स्कूल बस छोड़ने की अपील की। छात्र ने लिखा कि मोदी अंकल मुझे तो पता है कि आपको सुनने के लिए तो लोग स्वयं के साधन से व स्वयं के खर्च पर आ सकते हैं। तो फिर स्कूल बस कि क्या जरूरत है।

पत्र में उल्लेख था कि जब आप सीहोर-विदिशा आए थे, तब भी मेरी स्कूल बस नहीं आई थी। मैंने यह भी सुना है कि स्कूल ने यदि बसें देने का आदेश नहीं माना तो शिवराज मामा स्कूल बंद करवा देंगे। अंकल आपको हमारी पढ़ाई और भविष्य की चिंता है। प्लीज शिवराज मामा से बोल दो कि आपकी सभा में स्कूल बस में लोगों को ढोकर ले जाने की जरू रत नहीं है।

आठवीं के छात्र ने पीएम को खत लिखकर पूछा, स्कूल जरूरी है या सभा Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।