बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

अगस्त 30, 2016

मिड डे मील कांड: 22 बच्चों की हुई थी मौत, महिला हेडमास्टर को 17 साल की कैद

मिड डे मील कांड: 22 बच्चों की हुई थी मौत, महिला हेडमास्टर को 17 साल की कैदसारण के चर्चित गंडामन मिड डे मील कांड में कोर्ट ने तत्कालीन प्रधानाध्यापिका मीना देवी को दो अलग-अलम मामलों में कुल सत्रह साल की सजा सुनाई है।

पटना सारण जिले के मशरक प्रखंड के धरमासती गंडामन गांव में नवसृजित प्राथमिक विद्यालय में विषाक्त मिड डे मील खाने से हुई 22 बच्चों की मौत के मामले में दोषी करार तत्कालीन प्रधानाध्यापिका मीना देवी को सत्रह साल की सजा हुई है।

अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वितीय विजय आनंद तिवारी ने सोमवार को यह सजा सुनाई। मीना देवी को पिछले बुधवार को दोषी करार दिया गया था।
अदालत ने कहा कि हेडमास्टर की जिम्मेदारी थी कि वह खाना बनाए जाने की निगरानी करे लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

कोर्ट ने धारा 304 के मामले में दस साल और धारा 308 के मामले में दोषी पाते हुए उसे सात साल की सजा सुनाई। दोनों सजाएं अलग-अलग भुगतनी होगी। इन धाराओं में यह अधिकतम सजा है। कोर्ट ने ढाई लाख रुपये मुआवजा देने का भी निर्देश दिया है।

तीन साल पुरानी है घटना
16 जुलाई 2013 को मशरक प्रखंड के धरमासती गंडामन गांव में नवसृजित प्राथमिक विद्यालय में बच्चों के मिड डे मील खाने के बाद हालत बिगडऩे लगी थी। घटना में 22 बच्चों की मौत हो गई थी और 25 बच्चे बीमार पड़ गए थे।

जांच के दौरान पता चला कि प्रधानाध्यापिका ने अपनी दुकान का तेल इस्तेमाल करने का दबाव डाला था। इस मामले में उसके पति अर्जुन राय को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया गया था।

जहर देने व साक्ष्य छुपाने का मामला हुआ प्रमाणित
दोषी करार दिए जाने के वक्त न्यायालय ने मीना देवी को हत्या के प्रयास, जहर देने, साक्ष्य छुपाने सहित अन्य धारा में लगाए गए आरोपों को सत्य से परे बताया था।

चर्चित मामले में कोर्ट का फैसला सुनने को सुबह से ही मीडिया कर्मियों और अन्य लोगों की भीड़ लगनी शुरू हो गई थी। फैसला सुनने के लिए कोर्ट रूम के भीतर जहां बड़ी संख्या में वकील जुटे थे।

परिजनों में मायूसी
सत्रह साल की सजा के बाद मृतकों के कई परिजनों ने कहा कि यह नाकाफी है। हेडमास्टर को फांसी की सजा मिलनी चाहिए थी। कम से कम उम्रकैद तो होना ही चाहिए था।

मिड डे मील कांड: 22 बच्चों की हुई थी मौत, महिला हेडमास्टर को 17 साल की कैद Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।