बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

अगस्त 13, 2016

यूपी में राज्य कर्मचारियों का 20 फीसदी बढ़ेगा एचआरए, आदेश जारी

लखनऊ,प्रदेश सरकार ने सूबे के 16 लाख कर्मचारियों के मकान किराया भत्ते में 20 फीसदी बढ़ोतरी का शासनादेश शुक्रवार को जारी कर दिया है। कर्मचारियों को बढ़े एचआरए का लाभ एक अगस्त से मिलेगा। इसका भुगतान अगस्त के वेतन में जोड़कर सितंबर में नकद किया जाएगा।

वित्त विभाग के सचिव अजय अग्रवाल ने बताया कि इससे राजकीय कर्मचारियों व अधिकारियों के साथ ही विभिन्न विभागों के कर्मचारियों, सहायता प्राप्त शिक्षण, प्राविधिक शिक्षण संस्थाओं के शिक्षक (यूजीसी, एआईसीटीई,आईसीएआर वेतनमानों के दायरे में आने वाले पदों को छोड़कर) तथा सहायता प्राप्त शिक्षण व प्राविधिक शिक्षण संस्थाओं के शिक्षणेतर कर्मचारियों को फायदा मिलेगा।
इन्हें वर्तमान में मिल रहे मकान किराए के भत्ते की दरों में 20 फीसदी की बढ़ोतरी करके भुगतान किया जाएगा।

*इस तरह की गई बढ़ोतरी*

अग्रवाल ने यह भी स्पष्ट किया है कि सातवें वेतन आयोग की संस्तुतियों पर निर्णय के लिए राज्य में गठित की गई वेतन समिति मकान किराया भत्ते के संबंध में नीतिगत निर्णय लेने के लिए संस्तुतियां देते समय इस वृद्धि का भी संज्ञान लेगी।

उन्होंने ग्रेड वेतन व श्रेणीवार एचआरए में वृद्धि का आदेश जारी किया है। इस फैसले से प्रदेश के 8.50 लाख राज्य कर्मचारी, 5.50 लाख शिक्षक, एक लाख शिक्षणेतर कर्मचारियों के अलावा स्थानीय निकायों, जिला पंचायतों, विकास प्राधिकरणों, स्वशासी संस्थाओं, सार्वजनिक उपक्रमों, निगमों के कर्मचारी फायदा पाएंगे।

एचआरए में न्यूनतम 60 और अधिकतम 2100 रुपये की बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने अधिकारियों को निर्णय पर अमल के लिए निर्देशित किया है।

यूपी में राज्य कर्मचारियों का 20 फीसदी बढ़ेगा एचआरए, आदेश जारी Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।