बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

जुलाई 16, 2016

फर्जीवाड़े की खुली पोल,बिना पद के ही डिग्री कालेज में मिल गई नौकरी,विजिलेंस की जांच में हुआ खुलासा,

इलाहाबाद, वरिष्ठ संवाददाता,उच्च शिक्षा निदेशालय के पूर्व प्रबंधक सचिव ने एक डिग्री कालेज के प्रिंसिपल से सेटिंग करके बिना पद के ही एक टीचर को नौकरी दे दी। मामला जब कोर्ट पहुंचा तो इसकी विजिलेंस जांच शुरू की।

जांच रिपोर्ट के बाद उच्च अधिकारियों ने सिविल लाइंस थाने में प्रबंधक सचिव समेत तीन पर फर्जीवाड़ा करके नौकरी दिलाने का मुकदमा दर्ज कराया है। सिविल लाइंस जांच के बाद कार्रवाई करेगी।

उच्च शिक्षा निदेशालय के संयुक्त निदेशक डॉक्टर एसपी खरे ने सिविल लाइंस थाने में निदेशालय के प्रबंधक सचिव अभय प्रताप सिंह, महात्मा गांधी स्नातकोत्तर महाविद्यालय, फतेहपुर के प्रिंसिपल डॉक्टर अवधेश सिंह और राजकीय महाविद्यालय कौशांबी के दर्शनशास्त्र के प्रवक्ता डॉक्टर आनंद प्रकाश पांडेय के खिलाफ फर्जीवाड़ा, साजिश रचना और भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया है।

आरोप है कि 30 सितंबर 2015 को सेटिंग करके डॉक्टर आनंद प्रकाश पांडेय को बिना पद के ही नौकरी दी गई थी। पद न होने के बाद तीनों ने आपस में फोन पर बात करके खेल किया।

अभय प्रताप सिंह ने फोन पर प्रिंसिपल डॉ. अवधेश सिंह से वार्ता की और डॉक्टर आनंद से सेटिंग करके उन्हें नौकर दे दी। जबकि उस वक्त कालेज में कोई पद ही खाली नहीं था। डॉक्टर आनंद के खिलाफ विजिलेंस से शिकायत भी हुई थी। विजिलेंस ने अपनी जांच रिपोर्ट में इनको दोषी पाया। इसके बाद अब सिविल लाइंस थाने में मुकदमा दर्ज हुआ है।

फर्जीवाड़े की खुली पोल,बिना पद के ही डिग्री कालेज में मिल गई नौकरी,विजिलेंस की जांच में हुआ खुलासा, Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।