बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

जुलाई 23, 2016

विवि ने पीजीएटी में धांधली के आरोप नकारे इलाहाबाद

इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति के निर्देश पर गठित उच्च स्तरीय जांच कमेटी ने परास्नातक प्रवेश परीक्षा (पीजीएटी) में किसी तरह की गड़बड़ी को नकार दिया है। कमेटी ने पाया कि छात्र-छात्राओं के आरोप पूर्णतया निराधार और असत्य हैं। इस रिपोर्ट के आने के बाद परास्नातक प्रवेश परीक्षा का परिणाम घोषित होने का क्रम भी शुक्रवार को शुरू हो गया।

विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि दो-तीन दिनों में सभी विषयों के परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे। इसके बाद दाखिले की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।
शोध (क्रेट) तथा परास्नातक प्रवेश परीक्षा में बड़े स्तर पर धांधली के आरोप लगे थे। क्रेट में धांधली की बात स्वीकार करते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने बिशप जानसन स्कूल एंड कालेज केंद्र की परीक्षा निरस्त कर दी है।

उस केंद्र के अभ्यर्थियों की दोबारा परीक्षा होगी, लेकिन अभ्यर्थी पीजीएटी भी दोबारा कराने की मांग कर रहे थे। इसे लेकर छात्रसंघ के निवर्तमान पदाधिकारियों की अगुवाई में लगातार आंदोलन चला। इसके बाद में कुलपति ने उच्च स्तरीय कमेटी को जांच की जिम्मेदारी दी थी।

सभी पक्षों से पूछताछ तथा उनकी ओर से उपलब्ध कराए गए साक्ष्य के आधार पर कमेटी ने सोमवार को ही रिपोर्ट सौंप दी थी। शुक्रवार को कुलपति ने लौटते ही उसे संज्ञान में लिया और प्रवेश प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश दिए। पीआरओ प्रोफेसर योगेश्वर तिवारी ने बताया कि जांच कमेटी ने सिर्फ क्रेट की बिशप जानसन स्कूल एंड कालेज केंद्र पर हुई ऑफलाइन परीक्षा में अनियमितता पाई। अन्य सभी केंद्रों पर लगे आरोप निराधार हैं।

विवि ने पीजीएटी में धांधली के आरोप नकारे इलाहाबाद Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।