बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

जुलाई 15, 2016

प्रदेश में प्राइमरी शिक्षा व्यवस्था बदहाल,सीएम के सामने एक भी बच्चा नही पढ़ पाया हिंदी,क्या खत्म होगा प्राइमरी शिक्षा का सरकारीकरण ? निजी स्कूलों के हवाले क्यों नही की जा रही प्राइमरी शिक्षा,? क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर,

⚡लखनऊ-यूपी मे प्राइमरी शिक्षा का सरकारीकरण क्या खत्म होगा?,निजी स्कूलो के हवाले क्यो नही की जा रही प्राइमरी शिक्षा @yadavakhilesh @CMOfficeUP

⚡लखनऊ-UP मे प्राइमरी शिक्षा गहरे अंधकार मे,प्राइमरी शिक्षक आने वाली नस्लो को खराब कर रहे @yadavakhilesh @CMOfficeUP

लखनऊ-बच्ची को छोड़ कोई हिन्दी नही पढ़ पाया,हर साल 20हजार करोड़ बेसिक शिक्षा पर खर्च होता @yadavakhilesh @CMOfficeUP

लखनऊ-किताब मे लिखी हिन्दी नही पढ़ पाए बच्चे,क्लास मे 11 बच्चो से CM @yadavakhilesh ने हिंदी पढ़ने को कहा @CMOfficeUP

⚡हर साल 20 हजार करोड़ बेसिक शिक्षा पर जाते हैं पर तस्वीर ऐसी भयावह है अब वक़्त है शिक्षा की सरकारीकरण खत्म किया जाए

Brajesh Misra‏ @brajeshliveबेसिक शिक्षा का स्तर यूपी में कितना नीचे गिर गया, आज सीएम अखिलेश यादव खुद इससे रूबरू हुए, क्लास में कोई भी बच्चा हिन्दी तक नहीं पढ़ पाया

बेसिक शिक्षा का स्तर यूपी में कितना नीचे गिर गया, आज सीएम अखिलेश यादव खुद इससे रूबरू हुए, क्लास में कोई भी बच्चा हिन्दी तक नहीं पढ़ पाया |

लखनऊ-CM @yadavakhilesh ने बेसिक शिक्षा विभाग की पोल खोली,श्रावस्ती मे बेसिक शिक्षा स्कूल का मुआयना किया @CMOfficeUP


प्रदेश में प्राइमरी शिक्षा व्यवस्था बदहाल,सीएम के सामने एक भी बच्चा नही पढ़ पाया हिंदी,क्या खत्म होगा प्राइमरी शिक्षा का सरकारीकरण ? निजी स्कूलों के हवाले क्यों नही की जा रही प्राइमरी शिक्षा,? क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर, Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।