बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

जुलाई 14, 2016

शिक्षक संघ ने बीएसए को सौंपा ज्ञापन: 17140 वेतनमान की विसंगतियों को दूर करने का मामला,

संवाददाता, पीलीभीत : उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के पदाधिकारियों ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर विभिन्न समस्याओं के निस्तारण की मांग की है। 17140 वेतनमान की विसंगतियों को दूर करने का मामला उठाया गया। समस्याओं के निस्तारण का आश्वासन दिया गया।

प्राथमिक शिक्षक संघ की सभी ब्लाक इकाइयों की ब्लाक संसाधन केंद्र मरौरी पर बैठक हुई, जिसमें शिक्षकों की तमाम समस्याओं पर चर्चा की गई। स्कूलों की शैक्षिक गुणवत्ता सुधारने पर जोर दिया गया। जिलाध्यक्ष दया शंकर गंगवार ने कहा कि नवनियुक्त अध्यापकों जिनका सत्यापन आ गया।

उनका एरियर का भुगतान किया जाना चाहिए। प्रमोशन में अब देरी नहीं होनी चाहिए। 17140 वेतनमान की विसंगति को दूर किया जाए। कुछ ब्लाकों के शिक्षकों को वेतनमान का लाभ दिया जा रहा है। शिक्षकों का शोषण ब्लाक स्तर के अधिकारियों से रोका जाए, तभी सुधार की दिशा में काम हो सकेगा।

उन्होंने कहा कि बीईओ नि:शुल्क यूनीफार्म में कमीशन के नाम पर शिक्षकों पर अवैध वसूली का दवाब बना रहे है। ब्लाकों के बिल लिपिक सेवा पुस्तिका बनवाने के नाम पर नवनियुक्त शिक्षक-शिक्षिकाओं का उत्पीड़न किया जा रहा है।

नवनियुक्त शिक्षकों को मार्च-अप्रैल का वेतन दिलाने की मांग की गई है। प्रतिनिधि मंडल में जिला मंत्री उमेश गंगवार, पवन सिन्हा, बाबूराम गंगवार, चंद्रमोहन गंगवार, मियां मोहम्मद मनाजिर, मोहम्मद मियां वारसी, सूरजपाल सिंह, सत्येंद्र प्रताप, रामाधार पांडेय, अंकित भारती, तारिक खां, आदिल खां, सूर्य प्रकाश, मनोज, भुवींद्रवीर, संतोष गंगवार, संजय कुमार आदि थे।

शिक्षक संघ ने बीएसए को सौंपा ज्ञापन: 17140 वेतनमान की विसंगतियों को दूर करने का मामला, Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।