बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

मार्च 20, 2016

पीसीएस 2016 प्री का इम्तिहान आज,प्रदेश के 21 जिलों के 945 केंद्रों पर होगी परीक्षा नोडल अधिकारी व पर्यवेक्षकों को जारी कर चुका निर्देश ,तैयारियां पूरी, पीसीएस-जे का साक्षात्कार सात से,

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : उप्र न्यायिक सेवा सिविल जज (जूनियर डिवीजन) यानी पीसीएस-जे 2015 का साक्षात्कार सात अप्रैल से शुरू होगा। यह प्रक्रिया 27 अप्रैल तक निरंतर चलनी है।

उप्र लोकसेवा आयोग ने इसका विस्तृत कार्यक्रम वेबसाइट पर अपलोड कर दिया है। मुख्य परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों को जल्द ही साक्षात्कार पत्रक भी वेबसाइट पर अपलोड किए जाएंगे।

आयोग के परीक्षा नियंत्रक प्रभुनाथ ने वेबसाइट यूपी पीएससी डॉट यूपी डॉट एनआइसी डॉट इन पर पीसीएस जे का साक्षात्कार कार्यक्रम अपलोड कर दिया है। इसमें तारीख और उस दिन होने वाले साक्षात्कार के रोल नंबर दिए गए हैं।

आयोग ने इसके लिए बोर्ड का गठन भी कर दिया है। अभ्यर्थियों को तीन पृष्ठ का आवेदन पत्र, प्रमाणीकरण पत्रक, परीक्षाओं के प्राप्तांक व अन्य विवरण संबंधी प्रपत्र वेबसाइट से डाउनलोड कर उसे पूर्ण रूप से भरना होगा। प्रपत्र का एक सेट तैयार कर उसे राजपत्रित अधिकारी से प्रमाणित कराना होगा।

स्वप्रमाणित फोटो की दो प्रति एवं अन्य प्रपत्रों के साथ अभ्यर्थियों को सुबह नौ बजे आयोग परिसर स्थित यमुना भवन में पहुंचना होगा। अभ्यर्थियों को अंक तालिका व उपाधियों के मूल प्रमाणपत्र भी लाना होगा। अन्य विस्तृत जानकारी के लिए अभ्यर्थी आयोग की वेबसाइट देख सकते हैं।

पीसीएस 2016 प्री का इम्तिहान आज,प्रदेश के 21 जिलों के 945 केंद्रों पर होगी परीक्षा नोडल अधिकारी व पर्यवेक्षकों को जारी कर चुका निर्देश ,तैयारियां पूरी, पीसीएस-जे का साक्षात्कार सात से, Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Agrima Singh

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।