बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

फ़रवरी 20, 2016

स्मार्टफोन निर्माताओं का दावा 250 में फोन बनाना असंभव

ब्यूरो नई दिल्ली। सस्ते स्मार्टफोन निर्माताओं का कहना है कि 250 रुपये में स्मार्टफोन का निर्माण और उसकी बिक्री असंभव है।

स्मार्टफोन निर्माताओं ने बताया कि फोन में लगने वाले 1जीबी मेमोरी कार्ड की ही कीमत लगभग 400 रुपये होती है। मेमोरी कार्ड की कीमत कच्चे तेल व सोने की तरह अंतरराष्ट्रीय दरों के मुताबिक तय होती है।
वहीं फोन को 3जी चलाने के लायक बनाने की लागत 3-4 डॉलर के आसपास होती है। ऐसे में नोएडा की कंपनी रिंगिंग बेल्स की तरफ से फ्रीडम 251 को मात्र 251 रुपये में बेचे जाने के कदम को शक की निगाह से देखा जाना लाजिमी है।

शुक्रवार को रिंगिंग बेल्स की साइट से फ्रीडम251 की बुकिंग की गई। लेकिन बुकिंग के दौरान भुगतान नहीं लिया गया। बुकिंग कराने वाले ग्राहकों को रिंगिंग बेल्स की तरफ यह कहा गया है कि अगले 48 घंटे में उन्हें ई-मेल के जरिए भुगतान की प्रक्रिया को पूरा करने की सूचना दी जाएगी।

अब तक के सबसे सस्ते स्मार्ट फोन के लिए मशहूर आकाश टैबलेट बनाने वाली कंपनी डाटाविंड के सीईओ सुनीत सिंह टूली ने बताया कि 251 रुपये में किसी भी प्रकार के स्मार्ट फोन को नहीं बनाया जा सकता है।
अगर कहीं से सब्सिडी दी जा रही हो या फिर प्रमोशनल आधार पर बिक्री करनी हो तभी 251 रुपये में स्मार्टफोन बेचा जा सकता है। उन्होंने बताया कि फ्रीडम251 में 1जीबी का रैम है, जिसकी न्यूनतम कीमत 400 रुपये होती है।
वहीं 3जी चलाने लायक फोन को बनाने के लिए क्वालकॉम कंपनी से समझौता होना जरूरी है क्योंकि इसका लाइसेंस क्वालकॉम के पास है। फ्रीडम251 में 3जी देने की पेशकश की गई है।
उन्होंने कहा कि अगर वाकई में फ्रीडम251 को 251 रुपये में बेचा जाता है तो वह भी डाटाविंड की तरफ से स्कूल के बच्चों को बांटने के लिए फ्रीडम251 की खरीदारी करेंगे।

स्मार्टफोन निर्माताओं का दावा 250 में फोन बनाना असंभव Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।