बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 02, 2015

अब दूर पुलिस महकमे में दारोगा की कमी होगी, सीधी भर्ती और मृतक आश्रित के कुल 3800 से ज्यादा अभ्यर्थियों को प्रशिक्षित किए जाने की तैयारी पूरी

राज्य ब्यूरो, लखनऊ : पुलिस महकमे में दारोगा की कमी अब दूर हो जाएगी। हाईकोर्ट के आदेश के बाद उपनिरीक्षक (दारोगा) पद के लिए चयनित 3469 और मृतक आश्रित कोटे के करीब 383 अभ्यर्थियों को प्रशिक्षित किए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

 वर्ष 2011 में शुरू हुई दारोगा भर्ती प्रक्रिया को तमाम अदालती दांव-पेंच के बाद पिछले दिनों हाईकोर्ट से हरी झंडी मिली है। इसके बाद प्रशिक्षण को लेकर तेजी शुरू हो गई है। पुलिस मुख्यालय ने सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली हैं और बुधवार से संबंधित अभ्यर्थियों को आदेश जारी होने शुरू हो जाएंगे। प्रशिक्षण निदेशालय के डीजी सुलखान सिंह ने बताया कि सीधी भर्ती और मृतक आश्रित के कुल 3800 से ज्यादा अभ्यर्थियों को प्रशिक्षित किए जाने की तैयारी पूरी हो गई है।

डॉ. बीआर अंबेडकर यूपी पुलिस एकेडमी मुरादाबाद, पुलिस ट्रेनिंग स्कूल (पीटीसी) मुरादाबाद, पीटीसी सीतापुर, आम्र्ड टेनिंग स्कूल (एटीएस) सीतापुर, पुलिस ट्रेनिंग स्कूल (पीटीएस) मुरादाबाद, पीटीएस गोरखपुर, पीटीएस उन्नाव, पीटीएस मेरठ और रिक्रूट ट्रेनिंग सेंटर चुनार, मीरजापुर को प्रशिक्षण के लिए निर्देश जारी किये जा चुके हैं। इन केंद्रों के लिए अभ्यर्थियों की संख्या भी निर्धारित कर दी गई है जिन्हें एक वर्ष तक प्रशिक्षण केंद्रों में रहकर पुलिसिंग सीखनी है। इसके बाद इन्हें फील्ड में भेजा जाएगा।

अब दूर पुलिस महकमे में दारोगा की कमी होगी, सीधी भर्ती और मृतक आश्रित के कुल 3800 से ज्यादा अभ्यर्थियों को प्रशिक्षित किए जाने की तैयारी पूरी Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।