बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 06, 2015

ना मोदी ना रघुराम, रुपए को बचाने केलिए हनुमान जी से गुहार,दिल्ली 500 और 1000 के नोटों से ढकी दीवार

अभी तक आपने 'महावीर जब नाम सुनावें, भूत-पिशाच निकट नहीं आवें' के जरिए बजरंग बली की महिमा का गुणगान सिर्फ भूत-प्रेत भगाने के लिए ही सुना होगा, लेकिन अब भक्त भगवान से एक ऐसी चीज मांग रहे हैं जिसे सुनकर शायद हनुमान जी भी चौंक जाएं।

 अंतरराष्ट्रीय बाजार में लगातार गिर रहे रुपए को संभालने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे देश के दिग्गज अर्थशास्त्रियों से दूर गुजरात के वडोदरा में भक्तों ने भगवान हनुमान से रुपए को मजबूत करने की गुहार लगाई है। जी हां...ये सच है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक वडोदरा के तारसली इलाके में सावन के आखिरी दिन यानी शनिवार को भक्तों ने श्री कष्ट भंजन हनुमान मंदिर की दीवारों को पूरे सात लाख रुपए के नोट चिपकाकर ढक दिया।

 500 और 1000 हजार के नोटों के रूप में ये रकम मंदिर में भक्तों ने ही दान दी थी। चोरी नहीं होता एक भी नोट इन भक्तों में से एक जयदीप पटेल ने बताया, 'अमेरिकी डॉलर की कीमत बढ़ने से गुजराती बहुत ज्यादा नुकसान उठा रहे हैं। इनमें भी वो लोग बहुत परेशान हैं जो विदेशों में बसे हैं। हम भगवान हनुमान से इस संकट की घड़ी में हमें उबारने की प्रार्थना कर रहे हैं। वहीं, मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष राकेश पटेल का कहना है, 'मंदिर में ऐसा अनुष्ठान पहली बार नहीं हो रहा है।

 पिछले तीन साल से यह परंपरा चली आ रही है, लेकिन अभी एक साल पहले से हम लोगों ने मंदिर की दीवारों को नोटों से ढककर हनुमान जी से रुपए को मजबूत करने की पूजा-अर्चना शुरू की है।' मंदिर ट्रस्ट के सचिव जनक अमीन ने बताया कि यहां दिलचस्प बात ये है कि मंदिर में पूजा करने हजारों लोग आते हैं, इसके बावजूद एक नोट भी चोरी नहीं होता। मंदिर में दान देने वाले लोगों की एक सूची तैयार की जाती है और श्रावण का महीना खत्म होते उनकी रकम उन्हें लौटा दी जाती है।

न्यूज़ साभार : अमर उजाला,

ना मोदी ना रघुराम, रुपए को बचाने केलिए हनुमान जी से गुहार,दिल्ली 500 और 1000 के नोटों से ढकी दीवार Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।