बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 08, 2015

प्रशिक्षु शिक्षकों ने मौलिक नियुक्ति के लिए किया प्रदर्शन, नियुक्तिपत्र जारी करने में देर करने तथा शासनादेश की अवहेलना किए जाने का आरोप

सोनभद्र। निज संवाददाता मौलिक नियुक्ति की मांग को लेकर शनिवार को प्रशिक्षु शिक्षकों ने बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने बीएसए पर नियुक्तिपत्र देने में देर करने का आरोप लगाया। उन्होंने शीघ्र नियुक्ति पत्र दिए जाने की मांग की। विधायक राबट्र्सगंज की पहल पर बीएसए ने नौ नवम्बर को नियुक्तिपत्र दिए जाने का आश्वासन दिया।

टीईटी संघर्ष मोर्चा के बैनर तले प्रशिक्षु शिक्षकों ने कहा कि बेसिक शिक्षा सचिव उत्तर प्रदेश ने14 अक्तूबर को सभी बीएसए को मौलिक नियुक्ति करने का आदेश दिया था। इसके बाद बीएसए सोनभद्र की ओर से 20 अक्तूबर को इस आशय की विज्ञप्ति जारी किए जाने के 17 दिन बाद भी प्रशिक्षु शिक्षकों को विभाग की ओर से कोई सही सूचना नहीं उपलब्ध कराई गई। उन्होंने बीएसए पर नियुक्तिपत्र जारी करने में देर करने तथा शासनादेश की अवहेलना किए जाने का आरोप लगाया।

इसके बाद वे राबट्र्सगंज विधायक अविनाश कुशवाहा के साथ कलक्ट्रेट पहुंचे। विधायक की पहल पर बीएसए ने नौ नवम्बर को नियुक्तिपत्र देने का आश्वासन दिया। इस दौरान प्रशिक्षु शिक्षकों ने नियुक्तिपत्र मिलने के बाद आने वाली समस्याओं से भी अवगत कराया। बीएसए ने नियुक्तिपत्र वितरण करने तथा अन्य औपचारिकताओं जैसे मेडिकल कराने व समस्त एबीएसए द्वारा विद्यालय का कार्यभार ग्रहण आदेश उरमौरा स्थित बीएसए कार्यालय पर ही करवाने का आश्वासन दिया।

बीएसए के आश्वासन के बाद प्रशिक्षु शिक्षकों ने धरना प्रदर्शन स्थगित कर दिया। इस मौके पर जिलाध्यक्ष संदीप तिवारी, रत्नेश त्रिपाठी, आशीष पांडेय, काशीनरेश यादव, निरंजन, शैलेन्द्र पाल, बाबू सिंह कुशवाहा आदि मौजूद रहे।

प्रशिक्षु शिक्षकों ने मौलिक नियुक्ति के लिए किया प्रदर्शन, नियुक्तिपत्र जारी करने में देर करने तथा शासनादेश की अवहेलना किए जाने का आरोप Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।