बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

नवंबर 25, 2015

आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति का आह्वान, बेसिक शिक्षा विभाग पर मनमानी का आरोप, बेसिक शिक्षा विभाग बैकलॉग संबंधी नियमों की कर रहा है गलत व्याख्या

लखनऊ (ब्यूरो)। सूबे में 50 हजार शिक्षकों की पदावनति की तैयारी के खिलाफ मंगलवार को आरक्षण समर्थक शिक्षक और कर्मचारी काली पट्टी बांधकर अपना काम करेंगे। आरक्षण समर्थकों का कहना है कि बेसिक शिक्षा विभाग बैकलॉग संबंधी नियमों की गलत व्याख्या कर रहा है। उसकी इस मनमानी को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के संयोजक अवधेश वर्मा ने कहा कि सूबे के 8 लाख आरक्षण समर्थक काली पट्टी बांधकर काम करेगे। संघर्ष समिति ने निदेशक (बेसिक शिक्षा) को एक पत्र लिखते हुए बैकलाग संबंधी शासनादेश की प्रति भी उनके कार्यालय भेजी। इसमें कहा गया है कि विभाग बैकलॉग संबंधी नियमों की गलत व्याख्या करते हुए उसे केवल सीधी भर्ती से जोड़ा रहा है, जबकि इसमें पदोन्नति का स्पष्ट प्रावधान भी है। इसलिए शिक्षा विभाग को कोई कार्रवाई करने से पहले कार्मिक विभाग का मत ले लेना चाहिए।

समिति का कहना है कि शिक्षा विभाग 50 हजार दलित शिक्षकों को गलत तरीके से पदावनत करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश की गलत व्याख्या कर रहा है। संघर्ष समिति के नेताओं ने कहा कि मंगलवार को पूरे प्रदेश में काली पट्टी बांधकर काला दिवस मनाया जाएगा। राज्य सरकार की दलित विरोधी नीतियों का खुलासा किया जाएगा। फिर भी सरकार नहीं चेती तो समिति प्रदेशव्यापी आंदोलन करने को बाध्य होंगी।

keywords : # promotion revart, # lucknow, # agitation, 


आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति का आह्वान, बेसिक शिक्षा विभाग पर मनमानी का आरोप, बेसिक शिक्षा विभाग बैकलॉग संबंधी नियमों की कर रहा है गलत व्याख्या Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।