बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

अक्तूबर 15, 2015

"जया भी गोमांस खाती हैं,उनकी हत्या कर दूं |"-अमर सिंह | देश की राजनीति के लिए विकास मुद्दा नहीं रह गया है, बल्कि गोमांस और आरक्षण पर हो रही है बहस

ब्यूरो मिर्जापुर अमर ने कहा, गोमांस के मुद्दों से समाज को बांटा जा रहा है समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता अमर सिंह ने गोमांस पर हो रही राजनीति के जरिए जया बच्चन पर निशाना साधा है। मंगलवार को मिर्जापुर में उन्होंने कहा कि गोमांस खाने पर किसी की हत्या नहीं होनी चाहिए।

 जया बच्चन गाय और सूअर का मांस खाती हैं,तो क्या मैं उनकी हत्या कर दूं। अमर सिंह मां विंध्यवासिनी धाम में दर्शन करने गए थे। पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि देश की राजनीति के लिए विकास मुद्दा नहीं रह गया है, बल्कि गोमांस और आरक्षण पर बहस हो रही है। उन्होंने बताया कि ग्लासगो में एक प्रतिनधिमंडल में वह जया बच्चन के साथ गए थे। वहां जया बच्चन ने गाय और सूअर का मांस मंगवाया और मुझसे भी खाने के लिए कहा, लेकिन मैंने इनकार कर दिया।

 अमर ने ये भी बताया, जया ने कब खाया था गोमांस :-

समाजवादी पार्टी से ही सांसद रह चुके अमर सिंह ने कहा कि ऐसे कई लोग हैं, जो दोनों खाते हैं, लेकिन उनकी हत्या थोड़े ही कर देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि समाज को ऐसे मुद्दों से बांटा जा रहा है। वाराणसी की सड़कों पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि यदि मोदी चाहें तो अडानी और अंबानी बनारस के घाटों को ठीक कर दें और अगर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कहें कि ताज का रखरखाव टाटा देखें तो क्या नहीं हो सकता है।

 अमर सिंह ने कहा कि कारपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी के तहत उद्योगपतियों को ऐसा करने को कहा जाय तो हालात बदल सकते हैं। मोदी और अखिलेश बौद्ध देशों में जाएं और और वहां से बनारस के विकास के लिए पैसा लाएं। दलाई लामा को इस कार्य में आगे लाया जा सकता है। सपा में वापसी के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि यह उनका संक्रमण काल चल रहा है। सपा में वापसी के लिए कोई आवेदन नहीं किया है।

साभार : अमर उजाला

keywords : # politics , 

"जया भी गोमांस खाती हैं,उनकी हत्या कर दूं |"-अमर सिंह | देश की राजनीति के लिए विकास मुद्दा नहीं रह गया है, बल्कि गोमांस और आरक्षण पर हो रही है बहस Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।