बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत विद्यालयों के लिए वर्ष 2018 की आधिकारिक अवकाश तालिका जारी : Download Official Holiday List

अक्तूबर 23, 2015

आईटीआई में सख्ती से लागू होंगे मानक : आईएएस या वरिष्ठ पीसीएस अफसर को इसका अधिशासी निदेशक बनाया जाएगा

उद्योगों में रोजगार की संभावनाओं को देखते हुए प्रदेश सरकार औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आईटीआई) में शिक्षण-प्रशिक्षण की गुणवत्ता बढ़ाने पर जोर देगी। इसके लिए आईटीआई में नेशनल काउंसिल फार वोकेशनल ट्रेनिंग (एनसीवीटी) के मानकों का सख्ती से पालन कराया जाएगा।

इसके तहत जहां आईटीआई में छात्र-छात्राओं को व्यवहारिक प्रशिक्षण दिए पर जोर दिया जाएगा, वहीं पाठ्यक्रम को भी उद्योगपरक बनाया जाएगा। राजकीय आईटीआई में जहां प्रैक्टिकल कार्यों के लिए संसाधनों की कमी है, वहीं निजी आईटीआई में तो मानक के अनुरूप शिक्षक भी नहीं हैं।

प्रदेश सरकार ने मानकों की जांच और उनकी सतत निगरानी के लिए राज्य स्तर पर गठित स्टेट काउंसिल फार वोकेशनल ट्रेनिंग (एससीवीटी) को और अधिक अधिकार देने का निर्णय लिया है।इसके साथ ही आईएएस या वरिष्ठ पीसीएस अफसर को इसका अधिशासी निदेशक बनाया जाएगा। यह संस्था व्यावसायिक परीक्षा परिषद की जगह लेगी। परिषद का मुखिया अभी तक विभागीय अधिकारी ही होते थे और यह केवल परीक्षा कराने वाली संस्था बनकर रह गया था।

इसका कार्यालय भी अलीगंज के राजकीय आईटीआई परिसर में स्थित व्यावसायिक परीक्षा परिषद के कार्यालय में ही चलेगा। एससीवीटी को ज्यादा प्रभावी बनाने के लिए 46 नए पद भी सृजित किए गए हैं। परिषद के पुराने 53 और नवसृजित 46 पदों को मिलाकर एससीवीटी में पदों की कुल संख्या अब 99 हो जाएगी। नए सत्र से यह संस्था पूरी तरह काम करना शुरू कर देगी।

keywords : # ITI,

आईटीआई में सख्ती से लागू होंगे मानक : आईएएस या वरिष्ठ पीसीएस अफसर को इसका अधिशासी निदेशक बनाया जाएगा Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kamal Singh Kripal

वैधानिक चेतावनी

इस ब्लॉग/वेबसाइट की सभी खबरें व शासनादेश सोशल मीडिया से ली गई हैं । कृपया खबरों / शासनादेशों का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें | इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है | पाठक खबरों के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा | किसी भी वाद - विवाद की स्थिति में उच्च न्यायालय इलाहाबाद का अंतिम निर्णय मान्य होगा ।